World Blood Donor Day

रायपुर- आज पूरी दुनिया विश्व रक्तदान दिवस मना रही है।जिसका उद्देश्य लोगों को रक्तदान के लिए प्रेरित करना है।लेकिन,खून की कमी से अकेले भारत में ही हर साल लगभग 1.36 लाख महिलाओं की मौत हो जाती है।जो पूरी दुनिया में गर्भावस्था और प्रसव के दौरान हुई मौतों का 25.7 फीसदी है।विश्व रक्तदान दिवस मानव विज्ञान में नोबल पुरस्कार पाए वैज्ञानिक कार्ल लैंडस्टाईन की याद मनाया जाता है।इन्हें मानव रक्त का वर्गीकरण करने का श्रेय जाता है।इस दिवस को मनाने का उद्देश्य रक्तदान को प्रोत्साहन देना एवं उससे जुड़ी भ्रांतियों को दूर करना है।

इतना ही नहीं,नेशनल हेल्थ सर्विस ब्लड एंड ट्रांसप्लांट के आंकड़ों के अनुसार पिछले पांच साल में लगातार रक्तदाताओं की संख्या में गिरावट दर्ज की गई है।रिपोर्ट के अनुसार, पुरुष रक्तदाताओं में 24.8 और महिला रक्तदाताओं में 6 फीसद की कमी हुई है।

हर साल 1.20 करोड़ यूनिट खून की जरूरत

देश में हर साल लगभग 1.20 करोड़ यूनिट खून की जरूरत होती है।लेकिन,रक्तदाताओं से केवल 90 लाख यूनिट ही रक्त एकत्रित हो पाता है। जिससे हर साल 30 लाख यूनिट रक्त की कमी रह जाती है

यह है कम होते रक्तदान की वजह

देश में तेजी से कम होते रक्तदाताओं का कारण रक्तदान को लेकर फैलीं कई तरह की अफवाहें हैं।सर्वे के अनुसार,शाकाहारी लोग यह मानते हैं कि उनके शरीर में आयरन की कमी होती है इसलिए वह रक्तदान नहीं कर सकते जबकि कई शाकाहारी खानों में आयरन भरपूर होता है।

कई लोग यह मानते हैं कि-शरीर पर टैटू बनवाने के बाद रक्तदान करना ठीक नहीं होता।जबकि मामला इसके ठीक उलट है।टैटू या पियर्सिंग करवाने के चार से पांच महीने बाद आसानी से रक्तदान किया जा सकता है।रक्तदान के दौरान कोई भी दाता जितना रक्त दान करता है शरीर उसकी आपूर्ति 24 घंटों के अंदर कर लेती है।

Summary
0 %
User Rating 4.55 ( 1 votes)
Load More Related Articles
Load More By MyNews36
Load More In आर्टिकल्स

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Big cabinet decision : जमीन रजिस्ट्री में 30 फीसदी की कटौती….

रायपुर MyNews36- भूपेश सरकार ने आम जनता के हित को ध्यान में रखकर बड़ा तोहफा दिया है।भूपेश स…