कोरोना वायरस का नया और अधिक संक्रामक वैरिएंट ओमिक्रॉन इस समय पूरी दुनिया में तेजी से फैल रहा है। इसकी संक्रामक क्षमता डेल्टा वैरिएंट से भी अधिक मानी जा रही है। हालांकि, इसे उतना ज्यादा घातक नहीं माना जा रहा है। लेकिन, विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की कोविड-19 टेक्निकल लीड डॉ. मारिया वान केरखोव ने लोगों से अपील की है कि ओमिक्रॉन वै को हल्के में न लें।

डॉ.केरखोव के अनुसार इस बात के सबूत बढ़ रहे हैं कि ओमिक्रॉन प्रतिरक्षा शक्ति को चकमा दे सकता है। डेल्टा की तुलना में ओमिक्रॉन से संक्रमण से कम गंभीर होने के कुछ साक्ष्य मिले हैं लेकिन इसे हल्की बीमारी मानना एक गलती होगी। उन्होंने कहा कि ओमिक्रॉन से संक्रमित हुए लोगों को भी अस्पताल में भर्ती कराने की नौबत आ रही है और लोगों को इसे लेकर सतर्क रहना चाहिए।

हर देश में पहुंच चुका है ओमिक्रॉन वैरिएंट

उन्होंने कहा कि जिन देशों में जीनोम सीक्वेंसिंग की तकनीक अच्छी है, ऐसे सभी देशों में ओमिक्रॉन वैरिएंट के होने की पुष्टि हो चुकी है। संभावना इसी बात की है कि यह दुनिया के हर देश में पहुंच चुका है। बता दें कि ब्रिटेन और अमेरिका में ओमिक्रॉन की वजह से रोज लाखों की संख्या में कोरोना मरीज सामने आ रहे हैं। इसके अलावा और भी कई देशों में हालात बहुत गंभीर हो गए हैं।

दुनिया भर में तेज रफ्तार से बढ़ रहे मामले

कोरोना संक्रमण को लेकर डब्ल्यूएचओ की ओर से जारी साप्ताहिक अपडेट के अनुसार तीन से नौ जनवरी के बीच दुनिया भर में कोरोना के डेढ़ करोड़ नए मामले सामने आए हैं। इससे पहले के सप्ताह की तुलना में यह आंकड़ा 55 फीसदी अधिक है। इसके अलावा इस सप्ताह 43 हजार मरीजों की मौत की पुष्टि भी हुई। नौ जनवरी तक दुनिया में कुल मामले 30.40 करोड़ से अधिक हो चुके थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.