Mynews36
!! NEWS THATS MATTER !!

Training:जिला अंत्यावसायी प्रशिक्षण केन्द्र पहुंचे नीति आयोग के संयुक्त सचिव

फ्लैक्स प्रिटिंग मशीन प्रशिक्षण,एलईडी बल्ब निर्माण,चुड़ी निर्माण जैसे नए ट्रेडो में युवाओं का बढ़ा आकर्षण

Training

कोण्डागांव MyNews36 :- इसमें कोई दो राय नहीं कि युवाओं की ऊर्जा को नई दिशा मिलना निहायत जरुरी होता है अन्यथा उनमें भटकाव की स्थिति आने में देर नहीं लगती। यह भी कड़वी सच्चाई है कि वर्तमान परिदृष्य में सभी क्षेत्रों में नौकरियों के अवसर सीमित होते जा रहे है।ऐसे में बेरोजगारी के दौर में एक मात्र विकल्प स्वरोजगार ही रह जाता है।इस क्रम में ग्रामीण क्षेत्रो के युवाओं के लिए स्थिति और भी विकट हो जाती है।अतः आज के युग में जो युवा पढ़ाई के साथ-साथ अपनी रुचि अनुसार अपने हुनर को संवारता है,वह कभी भी बेरोजगार नहीं होता और तो और वर्तमान में ऐसे कई क्षेत्र है जहां थोड़ी लगन और मेहनत से अपनी प्रतिभा को निखारा जा सकता है।

यह क्षेत्र इलेक्ट्रानिक्स हो या ड्राइविंग, सिलाई हो या ऑटोमोबाइल या फिर कम्प्युटर प्रशिक्षण भी हो सकता है। जिले के अंत्यावसायी व्यवसायिक प्रशिक्षण केन्द्र चिखलपुटी में भी इसी उद्देश्य को लक्ष्य बनाकर विभिन्न ट्रेडो की शुरुवात की गई है। यहां यह बताना जरुरी होगा कि जिला कलेक्टर नीलकंठ टीकाम द्वारा अपनी पदस्थापना के पश्चात ही इस अंत्यावसायी प्रशिक्षण केन्द्र में स्किल डव्हलपमेंट के क्षेत्र में नए-नए ट्रेड प्रारंभ करने के निर्देश दिए गए थे। फलस्वरुप आज यहां अन्य परम्परागत ट्रेड के साथ-साथ नए प्रशिक्षण कोर्स प्रारंभ कर दिए गए है। जिनमें एलईडी बल्ब निर्माण, फ्लैक्स प्रिटिंग मशीन प्रशिक्षण, सीमेंट ईंट निर्माण, चुड़ी निर्माण जैसे प्रशिक्षण शालाऐं कार्यरत है। 

इस क्रम में आज नीति आयोग के संयुक्त सचिव दिलीप कुमार उक्त अंत्यावसायी व्यवसायिक प्रशिक्षण केन्द्र चिखलपुटी पहुंचकर प्रशिक्षण शालाओं का निरीक्षण किया गया। मौके पर जिला कलेक्टर द्वारा उन्हें बताया गया कि विगत् एक वर्ष से जिला प्रशासन की पहल पर फ्लाईएष ब्रिक्स निर्माण युनिट स्थापित कर स्थानीय महिला स्व सहायता समूहो को संचालित करने का अवसर दिया गया। फलस्वरुप समूह के हितग्राही प्रतिदिन 250 से 300 रुपये आय अर्जन कर रहे है। इसी प्रकार वर्तमान में फ्लाई एश ब्रिक्स, आई फेवर ब्लाक, आर.सी.सी. पोल, फैंसिंग तार जाली का निर्माण महिला स्व सहायता समूहो द्वारा किया जा रहा है। उक्त निर्मित सामग्रियों की मांग जिले के सभी शासकीय अथवा निजी निर्माण कार्यो में निरंतर की जा रही है। इस प्रकार वर्तमान में इस ईंट यूनिट में 20 हितग्राही लाभान्वित है।

एलईडी बल्ब निर्माण सह प्रशिक्षण कार्यशाला में भी इसी प्रकार लगभग 80 युवक-युवती जुड़कर सात से आठ हजार प्रतिमाह लाभ ले रहे है। मौके पर प्रशिक्षक महीप सिंह ने संयुक्त सचिव को बताया कि यहां से निर्मित एलईडी बल्ब एवं ट्यूब लाईट का विपणन क्षेत्र आसपास के अन्य जिलो के अलावा उड़िसा क्षेत्र में भी है। इस क्रम में संयुक्त सचिव ने अंत्यावसायी परिसर में ही स्थित चुड़ी निर्माण भट्टी एवं फ्लैक्स प्रिटिंग मशीन का भी अवलोकन किया। ज्ञात हो कि उक्त फ्लैक्स प्रिटिंग मशीन संचालन में 20 युवक-युवतियाँ जुड़े हुए है। इस दौरान संयुक्त सचिव ने सभी प्रशिक्षार्थियों का हौसला बढ़ाते हुए उन्हें पूरे लगन एवं मेहनत से सीखने की सलाह दी। मौके पर जिला कलेक्टर ने अवगत कराया कि इन सभी प्रशिक्षण शालाओं में स्थानीय बेरोजगार युवक-युवतियों के अलावा नक्सली पीड़ित परिवारो के सदस्यों एवं स्थानीय शिल्प कला से जुड़े महिलाओं को भी सीखने का अवसर दिया जायेगा। जिससे वे सशक्त हो सके।  

‘बिहान‘ केन्द्र में पहुंचकर संयुक्त सचिव ने स्व सहायता समूह द्वारा निर्मित सामाग्रियों का किया क्रय

इस क्रम में नीति आयोग के संयुक्त सचिव दिलीप कुमार ने रजबंधा तालाब के किनारे स्थित ‘बिहान‘ (राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन) केन्द्र में महिला स्व सहायता समूहो द्वारा निर्मित सामाग्रियों का भी अवलोकन किया। उल्लेखनीय है कि अलग-अलग विकासखण्डो से आई महिला स्व सहायता समूहो ने अपने द्वारा निर्मित विभिन्न उत्पाद एवं सामाग्रियों जैसे अचार, मसाले, मिष्ठान, अगरबत्ती, ईमली के पैकेट, सूखे मशरुम, महुआ के लड्डू, चिरौंजी के पैकेट एवं अन्य शिल्प सामाग्रियों को बड़ी रुचि से संयुक्त सचिव को दिखाया। मौके पर संयुक्त सचिव ने भी उनकी कुछ सामाग्रियों की खरीदारी करके हौसला अफजाई की। 

इस दौरान पुलिस अधीक्षक सुजीत कुमार, एसडीएम टेकचंद अग्रवाल, तहसीलदार ऋतु हेमनानी, कार्यपालन अधिकारी अंत्यावसायी बाबूभाई श्रीवास, प्रबंधक आदिल खान, सहायक परियोजना अधिकारी पुनेश्वर वर्मा सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे। 

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.