रायपुर – आयकर विभाग द्वारा पिछले दिनों प्रदेश के दो प्रमुख व्यापारिक समूहों के रायपुर और कोरबा से जुड़े 35 ठिकानों पर छापामार कार्रवाई की गई।इस कार्रवाई में विभाग ने तीन करोड़ रुपये नकदी और आभूषण जब्त किए है।आयकर अधिकारियों के मुताबिक इन निजी फमों से लोहा,इस्पात उत्पादों, कोयला वाशरी और परिवहन के सौदे में 200 करोड़ से अधिक की बेहिसाब नकदी छिपा रहे थे। तलाशी के दौरान रायपुर,कोरबा,बिलासपुर और रायगढ़ जिले में 35 से अधिक परिसरों पर कार्रवाई हुई।

आवश्यक दस्तावेज और डिजिटल साक्ष्य से मिला क्लू

कार्रवाई के दौरान आवश्यक दस्तावेज और डिजिटल साक्ष्य सहित एक-एक फर्म में कैश बुक के समानांतर सेट पाए गए थे। कैश बुक के इन समानांतर सेट की जांच से पता चला कि इसमें 200 करोड़ रुपये से अधिक के बेहिसाब लेनदेन का रिकार्ड था। साथ ही यह भी पता चला कि इस समूह की कुछ संस्थाएं वास्तविक उत्पादन को दबाने में लिप्त थी और बाद में नकद में बेहिसाब बिक्री विनियमन में दर्ज नहीं की गई थी। इसी प्रकार एक अन्य इकाइ से करीब 50 करोड़ रुपये के लेनदेन के रिकार्ड का एक समानांतर सेट बरामद किया गया था,जो लेखा पुस्तकों में नहीं होता था।

परिवहन में लगी संबंधित समूह संस्थाओं के साथ-साथ प्रवेश प्रदाताओं से फर्जी खरीद चालान प्राप्त करके आय जुटाए गए। इसी प्रकार अन्य समूह भी गलत कार्यों में लिप्त थे। इसके साथ ही कारोबारी समूहों द्वारा अप्रमाणित शेयर प्रीमियम के साथ शेयर पूंजी प्राप्त करना और फर्जी खरीद पर खर्च का दावा था। इस समूह के प्रमुख व्यक्ति ने 20 करोड़ रुपये की अघोषित आय स्वीकार की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.