Mynews36
!! NEWS THATS MATTER !!

प्रदेश के हजारों शिक्षक 20 नवम्बर की जगह अब 03 नवम्बर को राजधानी में करेंगे जब्बर रैली एवं धरना प्रदर्शन

निकाय चुनाव में आचार संहिता के मद्देनजर आंदोलन की तिथि में हुआ परिवर्तन

रायपुर-मध्यप्रदेश की तर्ज पर (Jabbar rally) छत्तीसगढ़ में भी प्रथम नियुक्ति तिथि से वरिष्ठता का लाभ देते हुए 10 वर्ष में प्रथम एवं 20 वर्ष में द्वीतीय क्रमोन्नति वेतनमान देने हेतु तत्काल आदेश जारी करने,वर्ग 03 की वेतन विसंगति दूर करते हुए 5200 + 2400 की जगह 9300 + 4200 वेतनमान देने,समस्त संविलियन से वंचित शिक्षाकर्मियों को अविलम्ब संविलियन करने एवं 3500 दिवंगत,पीड़ित परिवार के आश्रितों को तत्काल निश:र्त अनुकम्पा नियुक्ति देने की मांग को लेकर प्रदेशभर के एक लाख नौ हजार प्राथमिक शिक्षक, आगामी 03 नवम्बर, रविवार को प्रदेश की राजधानी रायपुर के बूढ़ातालाब स्थित धरना स्थल पर “एक दिवसीय जब्बर धरना प्रदर्शन” कर “प्राथमिक शिक्षक अधिकार रैली निकालेंगे”…

उल्लेखनीय है कि यह आंदोलन पहले 20 नवम्बर हो होना था लेकिन प्रदेशभर में नगरीय निकाय चुनाव में आदर्श आचार संहिता के मद्देनजर अब यह प्रदर्शन 03 नवम्बर को होगा।

छत्तीसगढ़ प्राथमिक शिक्षक फेडरेशन के प्रदेशाध्यक्ष जाकेश साहू एवँ प्रदेश संयोजक इदरीश खान ने समस्त इलेक्ट्रॉनिक एवँ प्रिंट मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि (Jabbar rally) आगामी 03 नवम्बर,रविवार को एक दिवशीय प्रदेश स्तरीय जब्बर धरना प्रदर्शन व आंदोलन किया जाएगा तथा प्राथमिक शिक्षक अधिकार रैली निकाली जाएगी।

छत्तीसगढ़ प्राथमिक शिक्षक फेडरेशन के प्रदेशाध्यक्ष जाकेश साहू,प्रदेश संयोजक इदरीश खान,प्रदेश महासचिव माहिर सिद्दीकी, प्रदेश उपाध्यक्षद्वय लेखपाल सिंह चौहान, भोजकुमार साहू एवँ प्रदेश संगठन मंत्री यशवंत कुमार देवांगन ने संयुक्त बयान जारी करते हुए कहा कि जब मध्यप्रदेश में प्रथम नियुक्ति तिथि से वरिष्ठता मानते हुए क्रमोन्नति वेतनमान दी जा रही है तो छत्तीसगढ़ में क्यों नहीं …..???

उल्लेखनीय है अविभाजित मध्यप्रदेश के प्राथमिक शालाओ में शिक्षा सत्र 1995 एवँ 1998-99 से शिक्षाकर्मी वर्ग 03 की भर्ती की गई थी। विगत लगभग 18 से 20 सालो के कड़े संघर्ष,आंदोलन,धरना-प्रदर्शन आदि से हमारी बहुप्रतीक्षित संविलियन की मांगें जब पूरी हुई है तब मध्यप्रदेश की अपेक्षा छत्तीसगढ़ के लगभग एक लाख नौ हजार प्राथमिक शिक्षक आज छले गए है।

मध्यप्रदेश के वर्तमान कमलनाथ सरकार ने प्रदेश के दो लाख, 80 हजार अध्यापक सँवर्ग के लिए पंचायत विभाग की प्रथम नियुक्ति तिथि से 12 वर्ष में प्रथम एवँ 24 वर्ष में द्वीतीय क्रमोन्नति वेतनमान का आदेश जारी कर दिया है।साथ ही दो वर्ष पूर्ण करने वाले सभी अध्यापक सँवर्ग का संविलियन कर दिया है।लेकिन छत्तीसगढ़ प्रदेश के एक लाख नौ हजार प्राथमिक शिक्षकों को पंचायत विभाग की प्रथम नियुक्ति तिथि से क्रमोन्नति नहीं देने एवँ संविलियन में 8 साल की बाध्यता से यंहा के शिक्षकों को प्रत्येक माह लगभग 12 से 17 हजार का बड़ा भारी आर्थिक नुकसान हो रहा है।

प्रदेशाध्यक्ष जाकेश साहू ने “छत्तीसगढ़ प्राथमिक शिक्षक फेडरेशन” के चार सूत्रीय मांगों क्रमोन्नति, वेतन विसंगति, वर्ष बन्धन एवँ अनुकम्पा नियुक्ति सहित अपनी चार सूत्रीय मांगों को लेकर आगामी 03 नवम्बर, रविवार को प्रदेशस्तरीय एक दिवशीय धरना प्रदर्शन का ऐलान किया है।

संघ के प्रदेश संयोजक इदरीश खान,प्रदेश उपाध्यक्षद्वय लेखपाल सिंह चौहान, भोजकुमार साहू,माहिर सिद्दीकी,यशवंत देवांगन सहित सभी पदाधिकारियों ने प्रदेशभर के प्राथमिक शिक्षकों से आगामी 03 नवम्बर, रविवार को राजधानी रायपुर के धरना स्थल बूढ़ातालाब में अधिक से अधिक संख्या में उपस्थित होकर जब्बर धरना प्रदर्शन एवँ आंदोलन तथा प्राथमिक शिक्षक अधिकार रैली को सफल बनाने की अपील की है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.