Mynews36
!! NEWS THATS MATTER !!

बच्चों की अच्छी परवरिश के लिए पहली जरूरी शर्त है पति-पत्नी का आपस में प्यार:पैरेंटिंग एक्सपर्ट

upbringing of children,upbringing of children

upbringing of children

शादी अपने आप को नए सिरे से खोजने जैसा है।शादी के बाद हर पति-पत्नी के लिए जरूरी है वो आपस में कम से कम तब सौहार्दपूर्ण संबंध रखें जब बच्चे आसपास हों।आपके रिश्तों की खिट-पिट आपके बच्चे के विकास को बहुत हद तक प्रभावित कर सकती है।यदि आप अपने जीवनसाथी के साथ किसी बात पर मतभेद हो जाए,तो कभी भी अपने बच्चों के सामने लड़ाई न करें और कोशिश करें कि अपने आपसी मतभेदों का निवारण एक ईकाई के रूप में करें,न कि अलग-अलग।अगर बच्चे आपको झगड़ता देखते हैं, तो भविष्य में उनके अपने रिलेशनशिप में भी ऐसा करने के चांसेज बहुत ज्यादा होते हैं।यदि आपके बच्चे आपके बीच झगड़े,अनादर और शारीरिक शोषण के गवाह बनते हैं,तो यह संभव है कि बच्चे के अवचेतन में ये बातें उसके लिए डरावनी यादों की तरह बैठ जाएं,यहां तक कि बड़े होने पर आपकी जगह जब वो पहुंचें,तो अपने पार्टनर के साथ ऐसा ही व्यवहार करें।इसके अलावा,ये बातें बच्चों में तनाव,पढ़ाई में मन न लगने,स्कूल में चिड़चिड़े व्यवहार,यहां तक कि डिप्रेशन का कारण बन सकती हैं।

पेनसिल्वेनिया के वेक्सफोर्ड की पीएचडी स्कॉलर और साइकोलॉजिस्ट Elizabeth R. Lombardo के अनुसार, “हम अपने बच्चों को हमेशा स्कूली शिक्षा देने पर जोर देते हैं।मगर यह भूल जाते हैं कि हमें उनके सामने अपना व्यवहार कैसे रखना चाहिए।बच्चों के सामने मम्मी-पापा के बीच जो कुछ घटित होता है,उससे पवारफुल स्मृति बच्चे के लिए कुछ नहीं हो सकती है।” एलिजाबेथ A Happy You नामक किताब की लेखिका भी हैं।

पार्टनर के साथ प्यार का रिश्ता

बाल्टिमोर साइकोथेरेपी इंस्टीट्यूट के को-फाउंडर और क्लीनिकल सोशल वर्कर Daniel L. Buccino कहते हैं कि मां-बाप अपने बच्चों को जो सबसे प्यारा गिफ्ट दे सकते हैं वो है आपसी प्यार की सुखद स्मृतियां।एक बच्चा भविष्य में तभी बेहतर इंसान बन सकता है जब वो अपने मां-बाप के आपस में प्यार के बंधन को महसूस कर पाए।इसका मतलब यह है कि उन्हें अपने बच्चों को यह सिखाना चाहिए कि जिस तरह वे आपस में प्यार करते हैं, उसी तरह बच्चे को दूसरों से प्यार करना चाहिए और वैसा ही व्यवहार करना चाहिए।

अगर आप मेरी बात करें, तो मैं और मेरे पति हमेशा इस बात को लेकर उत्साहित रहते हैं कि बच्चों के सामने हमें आपस का प्रेम दिखाना चाहिए। मुझे लगता है कि पेरेंट्स को कभी-कभार अपने बच्चों के साथ बाहर जाना चाहिए,एक दूसरे को हग करना चाहिए और किस करना चाहिए, ताकि बच्चों को महसूस हो कि पति-पत्नी के लिए आपस में समय बिताना कितना जरूरी है और उनका विश्वास प्यार में बढ़े। इससे बच्चों को इस बात का एहसास होता है कि पति होना सिर्फ किसी महिला का पार्टनर होना नहीं है, बल्कि एक दोस्त और एक प्रेमी होना है। Buccino के अनुसार, “आपके रिश्ता ही आपके परिवार की वास्तविक नींव है।”

बराबरी का होना चाहिए रिश्ता

मैं अपने जीवनसाथी के साथ अपनी जिम्मेदारियों को साझा करती हूं, और ऐसा ही हमारे बच्चों को सिखाती हूं। डॉ. लिबरमैन बताते हैं कि कैसे उन्होंने झगड़ालू घरों से आने वाले कई बच्चों के साथ काम किया। बहुत सारे मां-बाप, जो अपने साथी की इमोशनल जरूरतों को पूरा करने में असमर्थ होते हैं, वो अपने बच्चों का सहारा लेते हैं। इससे बच्चों पर दबाव बढ़ता है, जिसका पता आमतौर पर सामने से नहीं चलता है। अगर मां-बाप खुश हैं, तो बच्चे भी खुश रहते हैं क्योंकि वो समझते हैं कि परिवार में स्थिरता बनी हुई है।

मेरी शादी को 2 दशक से ज्यादा हो चुके हैं और इतने दिनों में मैंने यही सीखा है कि अपनी अलग-अलग पहचान के बावजूद आप अपने पार्टनर के साथ अपना प्यार बरकरार रख सकते हैं, अपनी भावनाएं शेयर कर सकते हैं और एक दूसरे को आजादी दे सकते हैं, ताकि आप भी खुशहाल रहें और बच्चों के लिए रोल मॉडल बन सकें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

MyNews36 के सभी प्रिय पाठकों से हमारा निवेदन है-

1) हाथ धोइए क्योंकि इसी से होगा बचाव 2)आंख, नाक और मुंह में हाथ लगाने से बचें 3) लिफ्ट का बटन और दरवाजों का हैंडल न पकड़ें 4)पब्लिक ट्रांसपोर्ट में सफर करते वक्त बरतें सावधानी 5)दूसरों से हाथ मिलाने से बचें 6)भीड़भाड़ वाली जगह जैसे- मॉल या सिनेमा जाने से बचें 7)सोशल गैदरिंग और शादी-पार्टी में जाने से बचें प्रिय पाठक अपनी सुरक्षा आप स्वयं रख सकते है,स्वच्छ रहे,स्वस्थ्य रहे,सुरक्षित रहे। www.MyNews36.com द्वारा जनहित में जारी

COVID-19 Updates in INDIA

Total cases- 2858

Death- 75

Recovered-192

Chhattisgarh Total cases - 6

More COVID-19 Advice
Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.