Mynews36
!! NEWS THATS MATTER !!

ऐसे सिखाएं अपने बच्चों को बोलना,आजमाएं ये 4 आसान ट्रिक्स

Teach your children how to speak,Teach your children how to speak

Teach your children how to speak

जब बच्चा पहली बार करता है, तो वो पल माता-पिता के लिए अनमोल हो जाता है। चाहे उसका पहला कदम हो, पहली मुस्कान हो, पहली बार बोलना हो या पहली बार स्कूल जाना हो। बच्चा की हर पहली चीज मां बाप के लिए कीमती और यादगार लम्हा होता है। पर अगर बात बच्चे की शुरुआती विकास की करें, तो हर मां-बाप बच्चे की एक चीज का बड़ी उत्सुकता से प्रतीक्षा करते हैं और वो है यह उनके बच्चे के मुंह से निकला पहला शब्द। हर बच्चे को बोलना सीखने में लंबा समय लग सकता है। अधिकांश बच्चे 11 से 14 महीने की उम्र के बीच अपने पहले शब्दों को बोलने की कोशिश करने लगते हैं। वहीं 16 महीने तक, एक बच्चे को एक दिन में 40 शब्द बोलना शुरू कर देना चाहिए। जैसा कि बच्चा हर दिन नए शब्दों को सुनता रहता है, तो धीरे-धीरे उसके शब्दावली बढ़ने लगते हैं। अपने तीसरे जन्मदिन तक आते-आते, एक बच्चे को जटिल वाक्यों की समझ बनाने और उनके साथ होने वाली बातचीत पर पकड़ बनाने में सक्षम होना जाना चाहिए। वहीं अगर बच्चे में बोलने का विकास अगर धीमी गति से हो रहा है, तो मां-बाप को उस पर खास ध्यान देना चाहिए। वहीं एक अभिभावक के रूप में, आप अपने बच्चे को तेजी से बात करने में भी मदद कर सकते हैं। कैसे आइए जानते हैं।

कैसे काम करता है बच्चे का ब्रेन?

बोलने का तरीका सीखने के लिए, एक बच्चे के मस्तिष्क को उनके नाम के साथ मिलान करने वाली वस्तुओं में प्रशिक्षित करने की आवश्यकता होती है। यह आपके बच्चे की जीभ और होठों को प्रशिक्षित करने में मदद करेगा कि ध्वनि बनाने के लिए उन्हें कैसे ध्वनि बनाने की जरूरत है। कुछ बच्चे जल्द ही बोलना शुरू कर देते हैं जबकि अन्य को मस्तिष्क और मोटर नर्व विकसित करने में अधिक समय लगता है। आमतौर पर एक बच्चे को अपनी आवाज और जीभ की गति पर नियंत्रण पाने में 18 महीने लगते हैं। 18 महीने तक, बच्चे को आधे शब्द – मम्मी के बजाय ‘मम्मा’ और डैडी के बजाय ‘दादा’ के रूप में बदल सकते हैं।

आप अपने बच्चे की मदद कैसे कर सकते हैं?

कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि गर्भ में बच्चे का बोलने का प्रशिक्षण शुरू होता है। प्रत्येक दिन जब आप गर्भ में अपने बच्चे से बात करती हैं, तो वह नए शब्द सीखता और सुनता है। अपने बच्चे को बात करने में मदद करने के लिए, यहां कुछ चीजें हैं जिन्हें आप आज़मा सकते हैं।

जब बच्चा गर्भ में हो सभी से उससे बात करें-

अपने बच्चे के मस्तिष्क को प्रशिक्षित करने का सबसे अच्छा तरीका है उससे बात करना। आप जितने अधिक शब्द कहेंगे, उतने अधिक शब्द बच्चे के मस्तिष्क को समझने और समझने की कोशिश करेंगे। इससे उसका मस्तिष्क जुड़ा रहेगा और उसकी शब्दावली बढ़ेगी। वहीं ये गर्भ से ही शुरू हो जाता है। पैदा होने के बाद आप अपने बच्चे को टहलाने ले जाकर बात करने में मदद करें और उसे आस पास होती चीजों के बारे में बताएं। अगर वे आपके सिर को हिलाकर या अपनी बाहों को हिलाकर या आपकी ओर इशारा करके आपकी प्रतिक्रिया का जवाब देते हैं, तो उन्हें और बोलने के लिए प्रेरित करना चाहिए।

उसके लिए कुछ गीत गुनगुनाएं-

कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कितना बुरा गाते हैं, संगीत की ध्वनि आपके बच्चे के मस्तिष्क की कोशिकाओं को उत्तेजित करेगी। फिर वे आपके गायन में शामिल होने की कोशिश करेगा। नर्सरी राइम, एक्शन गाने और लोरी ये सब आप अपने बच्चे के लिए गा सकते हैं। इसके साथ ही वे आपकी आवाज और आपकी क्रियाओं को पहचानने लगेगा, जिससे वो कभी कुछ चीजों के रिएक्शन में भी बोल सकता है।

बैबल बैक (बच्चे की आवाज को दोहराएं)-

आपके बच्चे द्वारा बनाई जा रही आवाज को दोहराएं। एक दूसरे की नकल करने का यह खेल आपके बच्चे को बोलने के लिए प्रोत्साहित करेगा। जब वह आपको कॉपी करना शुरू करता है, तो आप उसे नए शब्दों को सिखाने के लिए उपयोग कर सकते हैं। यह आपके बच्चे को तेजी से बात करने में मदद करेगा। इस तरह बड़े होते-होते वो कई चीजों को अच्छे से सीख जाएगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.