ग्रामीण छत्तीसगढ़ बड़ी खबर राजधानी शहर और राज्य समाचार स्वास्थ्य

पेट दर्द और सांस लेने में थी तकलीफ,मोबाइल मेडिकल यूनिट से इलाज के बाद मिल गई रिलिफ

मुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य योजनाः झुग्गी बस्तियों में रहने वाले गरीब परिवारों का इलाज हुआ आसान

रायपुर- 63 बसंत देख चुकी वृद्धा इंदिरा मनवानी को क्या मालूम था कि एक दिन अस्पताल और इलाज उसके घर के द्वार तक आ जायेगी। वह तो अस्पताल का मतलब घर से बहुत दूर और इलाज व दवा का मतलब लंबी लाइन और जमीन, जायदाद गिरवी ही समझती आई है। पेट और सिर दर्द से जूझ रही श्रीमती मनवानी अस्पताल जाने का विचार कर ही रही थी कि मुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य योजना से प्रदेश में शुरू हुई मोबाइल मेडिकल यूनिट की टीम उसके द्वार पर आ पहुंची।

यहां जांच पड़ताल के बाद मुफ्त में दवा भी मिली। डाक्टरों के सलाह और दवा ने इंदिरा की तकलीफे पल में दूर कर दी। अब इंदिरा मनवानी खुश है। कुछ ऐसी ही कहानी 55 साल की ललिता गुप्ता की है। कुछ दिनों से सिर में दर्द की शिकायत थी और उल्टी जैसा लग रहा था। अपने घर के पास मोबाइल मेडिकल यूनिट की शिविर लगी तो उन्होंने भी अपना निःशुल्क उपचार कराया और दवाई के साथ उन्हें राहत मिल गई।

प्रदेश में मोबाइल मेडिकल यूनिट टीम के माध्यम से झुग्गी बस्तियों के लोगों का निःशुल्क स्वास्थ्य जांच और इलाज होने से छोटी-छोटी बीमारी से जूझने वाले असंख्य परिवारों में खुशी की एक नई लहर है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और नगरीय प्रशासन विकास मंत्री डॉ शिवकुमार डहरिया की सोच का ही परिणाम है कि स्लम एरिया में रहने वाले परिवारों को उनके ही घरों के आसपास इलाज की सुविधा मिल रही है और प्रदेश में मुख्यमंत्री स्लम स्वास्थ्य योजना के तहत संचालित मोबाइल मेडिकल यूनिट हर गली, हर द्वार पहुचने लगी है।

नगरीय प्रशासन विकास मंत्री डॉ डहरिया ने अपने प्रभार जिले अंबिकापुर नगर निगम को 8 मोबाइल मेडिकल यूनिट की सौगात दी है। यहां पहली यूनिट के पहुचते ही चिन्हांकित स्लम एरिया में शिविर लगाकर डाक्टरों की टीम द्वारा इलाज भी प्रारंभ कर दिया गया है। खास बात यह भी है कि महज 5 दिन में स्लम एरिया के 400 लोगों ने अपना निःशुल्क इलाज कराया है। इस योजना के तहत स्लम क्षेत्र के निवासियों के स्वास्थ्य का जांच, उपचार, दवा वितरण एवं स्वास्थ्य परामर्श सुविधा निःशुल्क दिया जा रहा है।

यूनिट में ओपीडी, प्रयोगशाला जांच के साथ दवा वितरण और लैब में 41 प्रकार के स्वास्थ्य जांच की सुविधा उपलब्ध है।निगम क्षेत्र के इमलीपारा निगम काम्प्लेक्स के पास जब शिविर लगाया गया तो खजूरपारा निवासी इंदिरा मनवानी और ब्रम्हरोड निवासी ललिता गुप्ता ने अपना इलाज कराया। इलाज से राहत महसूस कर रही मनवानी और गुप्ता ने स्लम स्वास्थ्य योजना के तहत मोबाइल मेडिकल यूनिट जैसी पहल की बहुत प्रशंसा की और झुग्गियों में रहने वाले गरीब परिवारों का उपचार आसानी से होने की बात कहीं।

मुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य योजना के अंतर्गत 30 नगरीय निकायों के स्लम इलाकों में नागरिकों एवं श्रमिकों को स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने के उद्देश्य से हॉस्पिटल सह लैबोटरी बस (मोबाइल मेडिकल यूनिट) का शुभारंभ किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *