Mynews36
!! NEWS THATS MATTER !!

Shivaani Jadhaw:क्या है शिवानी जाधव का सफलता का राज,आइये जानें

रायपुर-कहते हैं कि ठान लो तो मंजिल मिल ही जाती है।मैंने पुणे से इंजीनियरिंग की पढ़ाई की लेकिन 12 साल की उम्र में मिस इंडिया,मिस यूनिवर्स और मिस वर्ल्ड बनने का जो सपना देखा था, उसे छोड़ा नहीं।इंजीनियरिंग में जब एडमिशन मिला तो 18 की उम्र में मिस यूनिवर्स का पुणे में ऑडिशन दिया,लेकिन रिजेक्ट हो गई। हिम्मत नहीं हारी।

shivaani jadhaw
shivaani jadhaw

फिर से 23 की उम्र में रायपुर से ऑडिशन दिया और फेमिना मिस ग्रैंड इंडिया का खिताब हासिल किया। यह कहना है शिवानी जाधव का।हाल ही में हुई मिस फेमिना प्रतियोगिता में शिवानी ने 29 राज्यों की प्रतिभागियों को पछाड़कर फेमिना मिस ग्रैंड इंडिया का खिताब हासिल किया।शिवानी ने अपने लंबे सफर पर चर्चा करते हुए बताया-12 साल की उम्र में ही इस मुकाम पर पहुंचने का सपना देखा था।पढ़ाई के साथ-साथ तैयारी की और आखिरकार सफलता मिल ही गई।

मकान मालिक ने स्वागत में बिछा दिया रेड कॉरपेट

अतिथि देवो भव की परंपरा भारतीय संस्कृति में है।ऐसे में फेमिना मिस ग्रैंड इंडिया का खिताब जीत कर रायपुर पहुंचने पर शिवानी का मकान मालिक स्वागत कैसे नहीं करते।मकान मालिक हेमंत कुमार और कविता ने पूरे घर को सजा दिया।कई तरह के पकवान बनाए।कविता बताती हैं कि शिवानी एक साल परिवार के साथ रहीं।उनके स्वागत में कोई कसर न रहे इसलिए घर को सजाने के साथ रेड कॉरपेट बिछाया और बैंड बाजा से स्वागत किया।

शिवानी का होम टाउन रायपुर नहीं,पुणे

शिवानी ने बताया कि उनका होम टाउन रायपुर नहीं,बल्कि पुणे है। 2015 में 18 वर्ष की उम्र में मिस यूनिवर्स के लिए पुणे में अप्लाई किया था,लेकिन सफल नहीं हो पाईं।इसी बीच रायपुर में शांतनु कम्प्यूटर प्राइवेट लिमिटेड में बातौर सॉफ्टवेयर इंजीनियर जॉब लगी और यहां रहने लगीं।इसी बीच रायपुर में मिस फेमिना का ऑडिशन हुआ और मिस फेमिना छत्तीसगढ़ का खिताब अपने नाम कर लिया।

छत्तीसगढ़ के बारे में पढ़ रही हूं

शिवानी ने बताया कि रायपुर में केवल एक साल ही हुआ है,ऐसे में छत्तीसगढ़ के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है।कुछ जगहें हैं,जो काफी पसंद हैं।इसमें गढ़कलेवा,मरीन ड्राइव आदि शामिल हैं। उन्होंने कहा कि वे छत्तीसगढ़ के बारे में पढ़ रही हैं।

मैसेज-इंजीनियरिंग की पढ़ाई से मिला फायदा

शिवानी ने बताया-इंजीनियरिंग करने वाले स्टूडेंट्स का कॉन्फिडेंस काफी हायर होता है।मैंने भी पुणे से कम्प्यूटर साइंस में इंजीनियरिंग की।इसका फायदा ऑडिशन के हर लेवल पर मिला।मेरी स्कील बेहतर थी।वाइस बेहतर थी।नए नॉलेज से पूरी तरह से अपडेट थी।मैं सभी को बताना चाहती हूं कि जो भी पढ़ाई कर रहे हैं उसे अपने पैशन के साथ एड करें।इससे मुकाम तक पहुंचने में आसानी होती है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.