cycel flower
cycel flower

रायपुर– घर का बगीचा हो या बाहर का उद्यान,सुंदरता साइकस के पौधे के बिना अधूरी ही है क्योंकि सुंदरता पर चार चांद लगाने का काम साइकस ही करता है।धीमी गति से विकास करने वाले इस पौधे के प्रेमियों को लंबे समय तक फूल आने का इंतजार करना पड़ता है।ऐसा ही इंतजार करना पड़ा राजधानी स्थित प्रोफेसर कॉलोनी सेक्टर एक निवासी राजेश दीक्षित को।बचपन से उद्यान के प्रेमी दीक्षित ने अपने घर के बगीचे में कई तरह के पौधे लगाए हैं।साइकस के दो पौधों में 15 साल बाद फूल आए हैं।इन फूलों को देखने कॉलोनी के लोग उनके घर आ रहे हैं।दीक्षित का कहना है कि परिवार के सदस्य की तरह वे पौधों की नियमित देखभाल करते हैं।

पौधा वितरण भी कर चुके

रिटायर्ड शिक्षक दीक्षित अब स्वयं का कारोबार करते हैं,लेकिन बचपन से लेकर अब तक पौधों से प्रेम कम नहीं हुआ।घर के लगभग हजार क्वेयर फीट के गार्डन में कई तरह के फूल,सजावटी पौधे लगा रखे हैं।बारिश में प्रति वर्ष आसपास के लोगों को पौधे का वितरण करते हैं।

अब तक वे 500 पौधे बांट चुके हैं। उनका कहना है कि सभी को पौधों से प्रेम करना चाहिए।इससे जहां प्रदूषण का स्तर घटेगा,वहीं इसकी आबोहवा से खुद को स्वस्थ रख सकते हैं।इसलिए परिसर में ग्रीनरी बढ़ाने के साथ लोगों का ध्यान खींचने वाले साइकस के पौधों के वितरण में विशेष ध्यान दिया जाता है।

वर्ष में एक बार आती हैं नई पत्तियां

साइकस के पौधे आंध्रप्रदेश व पश्चिम बंगाल के कोलकाता शहर में तैयार किए जाते हैं।वहां की नर्सरी में एक पौधे की कीमत 100 रुपये से लेकर एक लाख रुपये तक है।इसका बड़ा तना लोगों का ध्यान खींचता है।वर्ष में एक बार इसमें नई पत्तियां आती हैं।

रायपुर की नर्सरी में इस पौधे के दाम पत्तियों के हिसाब से तय होते हैं।इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक डॉ. जीएल शर्मा का कहना है साइकस में देरी से फूल आना कोई नई बात नहीं है।इस पौधे का स्वभाव ही काफी स्लो ग्रोथ होता है।मूलरूप से यह विदेशी प्रजाति का पौधा है। कई बड़े घरों,गार्डन,राज्यपाल भवन आदि जगहों पर इसे देखा जा सकता है।

उम्र के साथ बढ़ती जाती है कीमत

साइकस में गोबर की खाद डाली जाती है।इसका तना काले रंग का होता है।पौधे की कीमत उसकी उम्र के साथ बढ़ती है।रायपुर की कुछ पुरानी नर्सरियों में 10 से 30 वर्ष की आयु के साइस हैं।

Summary
0 %
User Rating 0 Be the first one !
Load More Related Articles
Load More By MyNews36
Load More In राजधानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

छत्तीसगढ़ सहायक शिक्षक फेडरेशन संघ अम्बागढ़ चौकी में बैठक सम्पन्न

राजनांदगांव-छत्तीसगढ़ सहायक शिक्षक फेडरेशन संघ की बैठक बी आर सी भवन अम्बागढ़ चौकी में प्रांत…