Mynews36
!! NEWS THATS MATTER !!

Room to Read :शिक्षा की एक अभिनव पहल,जानिए क्या है ख़ास बात

Room to Read

रायपुर/राजनंदगाँव- रूम टू रीड- प्राथमिक विद्यालयों में पुस्तकालय को अनिवार्य रूप से शामिल करने की मुहिम के प्रमुख गैर-सरकारी संगठन ‘रूम टू रीड’ छह राज्यों की सरकारों के साथ करीब 380 विद्यालयों में पुस्तकालय स्थापना सम्‍बन्‍धी समझौता किया है।यह संस्था बच्चों की शिक्षा व्यवस्था में सुधार के लिए पाठ्य पुस्तकों को रटने के स्थान पर पढ़ने की आदत विकसित करने सम्‍बन्‍धी प्रकाशन,प्रशिक्षण एवं पुस्तकालय स्थापना जैसे विभिन्न अकादमिक कार्य करती है।मुख्य रूप से प्राथमिक विद्यालयों में पुस्तकालय स्थापना के लिए संकल्पबद्ध संस्था अभी तक देश के नौ राज्यों में करीब 6,500 विद्यालयों में पुस्तकालय की स्थापना कर चुकी है।संस्था ने उत्तराखण्ड,राजस्थान,दिल्ली,आन्ध्र प्रदेश,छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र की राज्य सरकारों के साथ समझौता किया है।

झारखण्ड,हिमाचल प्रदेश और मध्य प्रदेश इस वर्ष संस्था के साथ अपना समझौता समाप्त होने के बाद स्वयं ही विद्यालयों में स्थापित किए गए पुस्तकालय चला रहे हैं।समझौते के तहत संस्था विद्यालय में एक पुस्तकालय की स्थापना करेगी एवं सभी आवश्यक संसाधन समेत करीब 10000 पुस्तकें उपलब्ध कराएगी।साथ ही संस्था तीन साल तक पुस्तकालय के परिचालन का कार्य भी करेगी।इस दौरान वह विद्यालय के शिक्षकों को पुस्तकालय चलाने का प्रशिक्षण देगी और प्रत्येक विद्यालय में पुस्तकालय को आवश्यक रूप से शामिल करने के लिए भी प्रेरित करेगी।इस योजना की सफलता के लिए विकासखंड राजनांदगांव में दो दिवसीय प्रशिक्षण आज दिनाँक 28 मई को विकास खण्ड स्त्रोत समन्वयक के डी साव के मार्गदर्शन व संकुल समन्वयक जी एम सिद्धकी रंगकठेरा,कुलदीप देवांगन हरदी,शैलेन्द्र कुमार साहू घुमका दिनेश सोनी पटेवा,नरेश दुरुगकर सोमनी,रोशन बेग मिर्झा सुरगी से जो कि-प्रशिक्षण के मास्टर ट्रेनर हैं उनके द्वारा प्रभावशाली शैली से प्रारम्भ हुआ।

शिक्षा का यह प्रयास काफ़ी सराहनीय है।राज्य शासन को भी शिक्षा गुणवत्ता के तहत इस ओर विशेष ध्यान देना चाहिए ताकि बच्चों का भविष्य उज्जवल हो और अपने देश,राष्ट्र व पाठशाला का नाम रोशन कर सके।

बारूद के बदले हाथों में आ जाए किताब तो अच्छा हो , ऐ काश हमारी आँखों का 21वाँ ख़्वाब तो अच्छा हो

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.