बिलासपुर – अमरकंटक से लौट रहे राजनांदगांव जिले के तीर्थयात्रियों की बस गुरूवार की दोपहर गौरेला-पेंड्रा-मरवाही कारीआम घाटी के पास पलट गई। हादसे के बाद चीख-पुकार मच गई। लोगों ने एक दूसरे की मदद की। इस बीच आसपास के ग्रामीण भी पहुंच गए। घटना में घायल 37 लोगों को अलग-अगल वाहनों से केंदा स्वास्थ्य केंद्र लाया गया। आठ गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। इनमें से चार को बिलासपुर के सिम्स (मेडिकल कालेज) भेज दिया गया। पुलिस घटना के कारणों की जांच कर रही है।

राजनांदगांव जिले के खैरागढ़ अंतर्गत ग्राम मदनपुर के ग्रामीण मध्य प्रदेश के अमरकंटक में नर्मदा दर्शन के लिए आए थे। नर्मदा दर्शन के बाद ग्रामीण अपने गांव लौट रहे थे। तीर्थ यात्रियों की बस गुस्र्वार की दोपहर गौरेला-पेंड्रा-मरवाही जिले के कारीआम घाटी के पास पहुंची। घाटी में अचानक बस अनियंत्रित होकर पलट गई। हादसे के बाद लोग मदद के लिए चिल्लाने लगे। बस में सवार कुछ लोगों ने दूसरों की मदद की।

इसी बीच वहां दूसरे वाहन से भी लोग पहुंच गए। किसी ने घटना की जानकारी पुलिस और संजीवनी एंबुलेंस को दी। इधर पास के ग्रामीण भी मौके पर पहुंच गए। पुलिस के वाहन और एंबुलेंस से घायलों को केंदा और रतनपुर के अस्पताल भेजा गया। वहीं, कुछ की स्थिति गंभीर होने पर सिम्स रेफर किया गया है।

पेड़ ने बचा ली लोगों की जान

बस को राजनांदगांव के ग्राम सिरभाही निवासी कमलेश वर्मा(40) चला रहा था। बस अनियंत्रित होकर पलटी और घाटी से नीचे गिरने लगी। इस बीच एक पेड़ ने बस को नीचे गिरने से बचा लिया। पेड़ के सहारे अटकी बस से लोगों को निकालकर सड़क पर लाया गया। वाहन के घाटी में गिरने पर बड़ा हादसा हो सकता था।

इनकी हालत गंभीर

हादसे में भूमिका यादव, अनिता, कुंवरिया साहू, भूमि साहू, गीतू साहू, ज्योति उपासे, सविता और राधा मरकाम गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। वहीं, कई लोगों को मामूली चोटे आई है। इन्हें प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई है।

ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए इस लिंक – https://chat.whatsapp.com/J8M6x3aju1UG3WjGzAlrd3 को क्लिक कर हमारे व्हाट्सप्प ग्रुप से जुड़े।

Leave a Reply

Your email address will not be published.