नरवा के पुनर्जीवित होने से भू-जल स्तर में होगी वृद्धि – मयंक चतुर्वेदी

रायपुर :- कोरोना काल के दौरान रायपुर जिला पंचायत अंतर्गत लंबित कार्यों को रफ्तार देने और कोरोना टीकाकरण के लिए लोगों को प्रोत्साहित करने जिला पंचायत सीईओ मयंक चतुर्वेदी ने अधिकारियों और कर्मचारियों की बैठक ली। जिसमे उन्होंने कहा कि जिले में जल संरक्षण और संवर्धन के लिए नालों को पुर्नजीवित किया जायेगा । नरवा के पुर्नजीवित होने से भू-जल स्तर में वृद्धि होगी। इसके तहत दूसरे चरण में नरवा का चिह्नांकन कर प्राक्कलन बनाने के निर्देश दिए। इसके आधार पर नरवा योजना अंतर्गत सभी जनपद को तीन-तीन समूहों में बांट कर जिलें में कुल 76 नरवा का चयन किया गया है।

बताते दे कि गर्मी के मौसम में कई इलाकों में पानी का संकट खड़ा हो जाता है। ऐसे में नरवा योजना का लाभ भू-जल के स्तर को बढ़ाने में मिलेगा, जिससे लोगों को पानी मिलेगा। कोरोना संक्रमण के कारण जिला पंचायत के अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्रों लंबित कार्यों को जल्द पूरा किया जाएगा, जिसमें स्वच्छ भारत मिशन, नरेगा, प्रधानमंत्री आवास योजना, गोठान समेत मुख्यमंत्री समग्र ग्रामीण विकास योजनांतर्गत कार्यों पर बैठक में चर्चा हुई।

प्रस्तावित कार्य अविलंब होंगे प्रारंभ

गोठान के कार्यों की समीक्षा करते हुए जिले के सभी गोठानों में चारा-पानी और चबूतरा शेड निर्माण के कार्य पूर्ण करने के निर्देश सीईओ ने दिए। उन्होंने कहा कि गोठानों को बहुआयामी क्रियाविधियों के केंद्र के रूप में विकसित किया जाना है। ज्ञात हो कि पहले और दूसरे चरण में बन चुके गोठानों में एक अप्रैल से गोबर खरीदी चल रही है। इस कार्य को नए गोठानों में भी शुरू करना है। गोठानों में प्रस्तावित कार्य अविलंब प्रारंभ कर पूर्ण किया जाए।

Leave A Reply

Your email address will not be published.