परीक्षा के परिणाम अंतिम नहीं,हिम्मत से काम लीजिए हजारों रास्ते कर रहे हैं आपका इंतजार

MyNews36- जिंदगी में हम तमाम उतार-चढ़ाव से गुजरते हैं और रास्ते में आई मुश्किलों को अपनी हिम्मत और धैर्य से मात भी देते हैं।जीवन में जब भी कभी असफलता मिलती है,तो समझ नहीं आता कि उसका सामना हम किस तरह से करें।हम सभी के जीवन की पहली कड़ी और अथाह उम्मीदों से भरी होती है परीक्षा होती है बोर्ड की परीक्षा।छात्रों से अधिक उनके माता-पिता परिणामों का बेसब्री से इंतजार करते हैं।

जिस दिन रिजल्ट की घोषणा होती है,उसी दिन संभवतः पहली बार हमारे समाने सफलता और विफलता पर खुद को संभालने की चुनौती होती है। उसी दिन हमें पहली बार अपने धैर्य से स्थिति से निपटना होता है।असफल होने के बाद कुछ छात्र अनुचित कदम उठा लेते हैं,लेकिन उन्हें भी समझने की जरूरत है,यह महज जीवन का एक पड़ाव है।उन्हें यह समझना चाहिए कि बस एक और कोशिश असफलता की कड़वाहट को दूर कर सकती है।बस नाजुक समय में हिम्मत और धैर्य से काम लेना होगा।ऐसे में छात्रों को असफलताओं से परे अपने भविष्य पर ध्यान केंद्रित करने की कोशिश करनी चाहिए।

परीक्षा में असफल हुए छात्रों को लेकर माता-पिता व अभिभावकों को भी सतर्क रहने की जरूरत है।रिजल्ट के बाद तक माता-पिता बच्चों से बात करते रहें।उनका मनोबल बढ़ाएं।उन्हें समझाएं कि परिणाम को आगे सुधारा जा सकता है।

सकारात्मक बने रहें

ऐसे लोगों के बीच रहने की कोशिश करें जो आपका उत्साह बनाए रखे। सकारात्मक रहना हमें सफल बनाने में मदद करता है।सकारात्मकता से जीवन में नए दृष्टिकोण विकसित करने में मदद मिलेगी।

असफलता हमें निराश जरूर करती है,लेकिन हमें उससे भी सबक सीखना चाहिए ताकि भविष्य में हम अपनी गलतियों को ना दोहराएं। आलसी न बन कर प्रत्येक कार्य जिम्मेदारी के साथ समय से पूरा करने की कोशिश करें क्योंकि आलस्य मनुष्य का सबसे बड़ा दुश्मन होता है।जीवन के लक्ष्य को पाने के लिए लगातार कड़ा परिश्रम करते रहें।

सेहत का रखें ध्यान

खाली पेट न रहें, खाली पेट रहने से भी तनाव बढ़ता है। इसलिए सेहतमंद खाएं और अच्छे ढंग से पानी पीएं।ऐसा करने से तनाव से दूर रहने में मदद मिलेगी।परीक्षा परिणाम को लेकर नकारात्मक विचार मन में न लाएं। खुली हवा में टहलने की कोशिश करें।इससे शरीर में ताजगी आएगी।

याद रखें कि परीक्षा के परिणाम अंतिम नहीं होते, इसको मेहनत से बेहतर बनाया जा सकता है। लेकिन यह तभी संभव हो पाएगा जब आप खुद को स्वस्थ रखेंगे। जीवन नदी की धार की तरह है, उसे रास्ते में चट्टानों से टकराना पड़ता है, कभी रास्ते भी बदलने पड़ते हैं। लेकिन नदी की धार का लक्ष्य सिर्फ आगे बढ़ना ही होता है, इसके लिए वो निरंतर अपनी लय में मुश्किलों से लड़ते हुए बहती रहती है। ऐसे ही हमें जीवन में भी नदी की धार की तरह कठिन हालातों में अपनी हिम्मत और धैर्य से आगे बढ़ने की कोशिश जारी रखनी चाहिए।

MyNews36 App डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें

शिक्षा सम्बंधित ख़बरों के लिए यहां क्लिक करें
रोजगार सम्बंधित ख़बरों के लिए यहां क्लिक करें
हमारे Whatsapp Group से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

MyNews36 जल्द लेकर आ रहा है एक्सपर्ट पैनल,सभी विषयों पर कर सकेंगे विस्तार से चर्चा…सही मार्गदर्शन से मिलेगा आपको बेहतर करियर,आज ही जुड़िये हमसे,हम देंगे आपके और आपके आगामी पीढ़ी के सपनों को ऊंची उड़ान……यह न्यूज़ अधिक से अधिक Share करें,ताकि हमारे विषेशज्ञ आपसे जल्द जुड़ सके,और आपको मिले सही मार्गदर्शन……MyNews36 का प्रयास सबको मिले सही शिक्षा….आप पर टिका देश का भविष्य…आज ही जुड़िये हमारे Whatsapp Group से और घर बैठे पाए निःशुल्क मार्गदर्शन….

Leave A Reply

Your email address will not be published.