रिज़र्व बैंक ने वित्तीय संस्थाओं के बेस रेट में की कटौती,अब लोन लेना पड़ेगा सस्ता

रायपुर – अगर आपने किसी NBFC या MFI से होम लोन या कॉमर्शियल लोन लिया है, या लेने वाले हैं, तो अगली तिमाही आपके लिए राहत भरी हो सकती है। अप्रैल से शुरु होने वाले नये वित्तीय वर्ष से ऐसे ग्राहकों को अपने लोन पर कम ब्याज चुकाना होगा।इसकी वजह ये है कि भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने इस तिमाही के लिए नया एवरेज बेस रेट जारी किया है।अप्रैल से शुरु होने वाले तिमाही के लिए बेस रेट 7.96 फीसदी से घटकर 7.81 फीसदी हो गया है। इसका फायदा नए ग्राहकों के अलावा उन पुराने ग्राहकों को भी मिलेगा, जिन्होंने एनबीएफसी से फ्लोटिंग रेट पर लोन लिया है।

RBI हर तिमाही के अंत में यह बेंचमार्क रेट जारी करता है। यह देश के पांच बड़े कमर्शियल बैंकों का एवरेज बेस रेट है और यही एनबीएफसी और माइक्रो फाइनेंस संस्थाओं (MFI) के लिए बेंचमार्क इंटरेस्ट रेट की तरह काम करता है।NBFC और MFI अगली तिमाही में इसी रेट से ग्राहकों को कर्ज देते हैं। इसलिए अप्रैल में जो लोग NBFC या MFI से किसी तरह का लोन लेना चाहते हैं, उन्हें कम रेट पर लोन मिलेगा। जहां तक मौजूदा ग्राहकों का सवाल है तो इसका फायदा सिर्फ उन ग्राहकों को मिलेगा, जिन्होंने फ्लोटिंग रेट पर लोन लिया है।

आम तौर पर NBFC और MFI की ब्याज दर आम बैंकों की तुलना में ज्यादा रहती है, इसी वजह से RBI ने इनकी ब्याज दरों के लिए बेंचमार्क रेट तय करने का फैसला किया। इसका फायदा ये हुुआ कि दो साल के अंदर एवरेज बेस रेट में 1.4 फीसदी कमी आई। छोटी एनबीएफसी को फंड की लागत पर 12 फीसदी मार्जिन वसूलने की इजाजत है, जबकि बड़ी एनबीएफसी ( 100 करोड़ से ज्यादा लोन) के लिए 10 फीसदी की सीमा तय कर दी गई है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.