रायपुर – रायपुर से विशाखापट्टनम जाने वाले यात्रियों के लिए राहत भरी खबर है। रेलवे ने लाखौली से आरवीएच रेलवे स्टेशन तक लाइन बिछाने का काम पूरा कर लिया है। एक रूट से दूसरे पर जाने के लिए रेलवे लाइन को जोड़ने का काम किया जा रहा है।इसके जुड़ने के बाद ट्रेनों का आवागमन शुरू कर दिया जाएगा। दोहरीकरण होने से यात्रियों के समय की बचत होगी। साथ ही मालगाड़ियों की संख्या में इजाफा होगा, जिससे रेलवे को राजस्व का फायदा होगा। रेलवे के अधिकारी का दावा है कि लाइन जोड़ने का काम तीव्र गति से हो रहा है। मई 2022 तक ट्रेन का संचालन शुरू कर दिया जाएगा।गौरतलब है कि रायपुर से विशाखापट्टनम रूट पर एक दिन में करीब एक दर्जन से अधिक यात्री गाड़ी एवं 50 से अधिक मालगाड़ी गुजरती है। यह सभी गाड़ियां एक ही लाइन से होकर जाती है, जिससे अक्सर ट्रेनें विलंब से होकर चलती हैं।

यात्रियों को इस समस्या से निजात दिलाने के लिए रेलवे प्रशासन रायपुर से टिटलागढ़ तक दोहरीकरण का काम कर रहा है। संबलपुर रेलवे मंडल ने टिटलागढ़ लाखौली तक दोहरीकरण का काम पूरा कर लिया है। लाखौली से रायपुर रेलवे स्टेशन तक दोहरीकरण का काम रायपुर रेलवे मंडल को करना है। रायपुर रेलवे मंडल की तरफ से नयारायपुर, मंदिरहसौद और आरबीएच रेलवे स्टेशन तक पटरी बिछाने का काम पूरा कर लिया है।

आउटर में रूकती है ट्रेनें

वर्तमान में सिंगल लाइन होने की वजह प्रतिदिन ट्रेनें लेट होती हैं। रायपुर स्टेशन प्रबंधन का कहना है कि रायपुर-टिटलागढ़ रूट से प्रतिदिन लगभग दो दर्जन ट्रेनें चलती हैं। इसमें से छह पैसेंजर ट्रेनें हैं। सिंगल लाइन होने की वजह से कई बार ट्रेनों को आउटर पर रोकना पड़ता है।

दोहरीकरण होने से बन जाएगी मेन लाइन

रायपुर से टिटलागढ़ की दूरी 200 किमी है। इसे वाल्टेयर लाइन के नाम से जाना जाता है। वर्तमान में इस रूट से एक दर्जन से अधिक एक्सप्रेस ट्रेनें रवाना होती हैं। वर्तमान में इस मार्ग की गिनती मुख्य रूट में नहीं होती। दोहरीकरण हो जाने के बाद यह भी मेन लाइन हो जाएगी और इस रूट में यात्री ट्रेनों की संख्या बढ़ाने का विकल्प खुल जाएगा।

रायपुर रेलवे स्टेशन के डायरेक्टर राकेश सिंह ने कहा, टिटलागढ़ से लाखौली और आरवीएच तक दोहरीकरण का काम पूरा कर लिया गया है। रेलवे लाइन जोड़ने का काम चल रहा है। मई 2022 तक इस रूट से ट्रेनों का संचालन शुरू कर दिया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.