राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत खरीफ फसल 2020 का पंजीयन अब 28 फरवरी तक

शासन की महत्वाकांक्षी योजना राजीव गांधी किसान न्याय योजना के प्रथम चरण में धान खरीदी बोनस का वितरण किया गया। इसी के दूसरे चरण में खरीफ 2020 में जिन किसानों द्वारा सोयाबीन, मूंगफली, तिल, अरहर, मूंग, उड़द, कुल्थी, रामतिल, कोदो, कुटकी एवं रागी फसल बोया गया था, उन्हें योजना का लाभ दिये जाना प्रावधानित है। इस संबंध में पंजीयन की तिथि में वृद्धि कर दी गई है। अब किसान 28 फरवरी तक अपना पंजीयन करा सकते है।

कलेक्टर पी.एस एल्मा ने आज यहां बताया कि कृषि में पर्याप्त निवेश एवं कास्त लागत में राहत देने के लिए राज्य शासन द्वारा कृषि आदान सहायता हेतु राजीव गांधी किसान न्याय योजना लागू की गई है। इस योजना के तहत खरीफ 2020 में सोयाबीन, मूंगफली, तिल, अरहर, मूंग, उड़द, कुल्थी, रामतिल, कोदो, कुटकी एवं रागी फसल की खेती करने वाले किसानों का पंजीयन समितियों द्वारा किया जा रहा है।

पंजीयन की तिथि में वृद्धि कर दी गई है। अब पंजीयन 28 फरवरी तक की जाएगी। इस संबंध में उन्होने कृषि विभाग के उपसंचालक को मैदानी अमलों के माध्यम से व्यापक प्रचार-प्रसार करने के निर्देश दिये है। कृषि विभाग के उपसंचालक डी.के ब्योहार ने बताया कि राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत जिले में सोयाबीन, मूंगफली, तिल, अरहर, मूंग, उड़द, कुल्थी, रामतिल, कोदो, कुटकी एवं रागी फसल की खेती करने वाले 2 हजार 193 किसानों का सत्यापन ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारियों द्वारा किया गया है।

जिसमें से 1 हजार 749 किसानों का पंजीयन समिति स्तर पर किया जा चुका है। उन्होने बताया कि पंजीकृत और वास्तविक बोये गये रकबा के आधार पर निर्धारित राशि प्रति एकड के दर से अनुपातिक रूप से उनके बैंक खाते में प्रत्यक्ष लाभ (डीबीटी) के माध्यम से सहायता राशि अंतरित की जाएगी। बोये गये रकबे के आधार पर लाभ प्राप्त करने हेतु किसानों को घोषणा पत्र के साथ विभागीय पोर्टल पर पंजीयन कराना अनिवार्य होगा।

उन्होने खरीफ 2020 में सोयाबीन, मूंगफली, तिल, अरहर, मूंग, उड़द, कुल्थी, रामतिल, कोदो, कुटकी एवं रागी फसल की खेती करने वाले किसानो को ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी से सत्यापन उपरांत संबंधित सेवा सहकारी समिति में 28 फरवरी 2021 तक पंजीयन कराने का आग्रह किया है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.