रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की अयोध्या में बैठक शुरू हो गई है। बैठक में मंदिर के शिलान्यास की तारीख का भी एलान हो सकता है, माना जा रहा है कि मंदिर का निर्माण पांच अगस्त से शुरू हो सकता है। हालांकि, अभी तक प्रधानमंत्री कार्यालय से इसकी पुष्टि नहीं की गई है।श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की बैठक अयोध्या के सर्किट हाउस में चल रही है। बैठक पर अयोध्या सहित करोड़ों रामभक्तों की निगाह टिकी हुई है क्योंकि बैठक में राममंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन की तिथि पर अंतिम मुहर लग सकती है।

बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संभावित कार्यक्रम पर विचार हो सकता है। आपको बता दें कि रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास प्रधानमंत्री को अयोध्या आने के लिए निमंत्रण पत्र भेज चुके हैं। इसको लेकर पीएमओ से 3 अगस्त या सावन मास के समापन के दिन पूर्णिमा की शुभ घड़ी में 5 अगस्त का कार्यक्रम तय करने पर विचार चल रहा है।

ट्रस्ट अध्यक्ष ने पीएम मोदी को लिखा था पत्र

राम मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास ने पीएम नरेंद्र मोदी को अयोध्या दौरे के लिए पत्र लिखा था। जिसमें उन्होंने कहा था कि पीएम नरेंद्र मोदी अतिशीघ्र अयोध्या आकर राममंदिर निर्माण का शुभारंभ करें। ट्रस्ट अध्यक्ष ने यह भी लिखा था कि वर्चुअल या वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से नहीं बल्कि मोदी स्वयं अयोध्या आएं और राममंदिर निर्माण की नींव रखें। महंत के उत्तराधिकारी कमलनयन दास ने कहा कि प्रधानमंत्री का कार्यक्रम तय हो रहा है,जल्द ही तिथि का एलान होगा।
 

500 साल बाद आई शुभ घड़ी, मोदी रखें पहली ईंट

राममंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास के उत्तराधिकारी महंत कमलनयन दास कहते हैं कि मोदी शीघ्र अयोध्या आकर राममंदिर निर्माण का शुभारंभ करें। मोदी व योगी के कर कमलों से ही राममंदिर की पहली ईंट रखी जानी चाहिए, क्योंकि मोदी व योगी के काल में ही यह शुभ अवसर आया है। संत समाज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अयोध्या आगमन पर उनके स्वागत को तैयार है।

श्रीरामबल्लभाकुंज के अधिकारी राजकुमार दास कहते हैं कि रामनगरी का वर्षों का इंतजार अब खत्म होने को है। हमारे आराध्य अब शीघ्र ही दिव्य भव्य मंदिर में विराजेंगे। हम सभी चाहते हैं कि प्रधानमंत्री मोदी अयोध्या आकर राममंदिर निर्माण कार्य का शुभारंभ करें, तो रामनगरी का गौरव और भी बढ़ेगा। राममंदिर निर्माण कार्य का शुभारंभ ऐसा होना चाहिए जिसका संदेश पूरे विश्व को जाए।

बाबरी मस्जिद के पक्षकार रहे इकबाल अंसारी कहते हैं कि अयोध्या में अब अतिशीघ्र राममंदिर बनना चाहिए। मोदी व योगी के शासन में ही यह ऐतिहासिक क्षण आया है जब अयोध्या में राममंदिर निर्माण का शुभारंभ होना चाहिए। संत समाज के साथ-साथ हम भी चाहते हैं कि मोदी व योगी ही राममंदिर निर्माण के लिए पहली ईंट रखें। इन दोनों के शासन में अयोध्या को हर दिशा में एक नया आयाम प्राप्त हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You missed