रायपुर- कोरोना से पूरा देश लड़ रहा है। कोरोना को लेकर जगह-जगह आइसोलेशन वार्ड बनाए जा रहे हैं।इस जंग में रेलवे ने भी संक्रमित मरीजों की जिंदगी बचाने के लिए 55 कोच को आइसोलेशन वार्ड में तब्दील किया गया है।कोरोना वायरस के संक्रमण से पीड़ित रोगियों की संख्या में वृद्धि होने पर इन कोचों का उपयोग किया जाएगा। इसके लिए इन कोचों को सैनिटाइज करके मेडिकल इक्विपमेंट्स लगाकर आइसोलेशन वार्ड में परिवर्तित कर दिया गया है।इसके साथ ही क्वारंटाइन सेंटर भी बनाया गया है।

ज्ञात हो कि रायपुर रेलवे मंडल के अंतर्गत 55 कोच में कुल 440 आइसोलेशन वार्ड तथा रेलवे के कम्युनिटी सेंटर, रेलवे इंस्टीट्यूट और आरपीएफ बैरक में क्वारंटाइन सेंटर के 122 बेड बनाए गए हैं। रेलवे द्वारा कोच में बनाए गए आइसोलेशन वार्ड में मुख्य रूप से दो शौचालयों को फर्श लगाकर स्नान कक्ष में बदला गया। स्नान कक्ष में हैंड शॉवर, एक बाल्टी और मग रखे गए हैं। मिडिल बर्थ को हटा दिया गया है। अलग-अलग पार्टिशंस, चार बोटल होल्डर्स लगाए गए हैं।

चिकित्सा उपकरणों के लिए व्यवस्था

चिकित्सा उपकरणों के लिए प्रत्येक डिब्बे में 220 वोल्ट, बाहर के लिए 415 वोल्ट की विद्युत आपूर्ति का प्रावधान है।प्रत्येक डिब्बे में एयर प्लास्टिक के पर्दे का प्रावधान है।प्रत्येक कोच में चार्जिंग पॉइंट दिए गए हैं।आइसोलेशन कोच दुर्ग रेलवे स्टेशन के वाशिंग यार्ड में तैयार किया गया है।

कोरोना से संक्रमित मरीजों को रखने के लिए रेलवे ने कोच में आइसोलेशन वार्ड तैयार किया है। जरूरत पड़ने पर इसका उपयोग किया जाएगा।

शिव कुमार, वरिष्ठ प्रचार-प्रसार निरीक्षक, रेलवे मंडल, रायपुर

Leave a Reply

Your email address will not be published.