कोंडागाँव- विगत 15 जून को कलेक्ट्रेट भवन मे कलेक्टर पुष्पेन्द्र कुमार मीणा की अध्यक्षता मे खाद्य सुरक्षा विभाग की समीक्षा बैठक सम्पन्न हुई। इस बैठक मे कलेक्टर ने सम्पूर्ण जिले मे खाद्य सुरक्षा विभाग के अन्तर्गत विभिन्न योजनाओ जैसे धान खरीदी राशन कार्ड निर्माण, उज्जवला योजना, आत्मनिर्भर भारत योजना, पीडीएस दुकानो की माॅनिटरिंग, पेट्रोल पम्प एवं गैस ऐजेंसियो का निरीक्षण आदि विषयो पर विस्तार से चर्चा की।

कलेक्टर ने इस बैठक मे राषन कार्ड के सभी लंबित प्रकरणो की दो सप्ताह मे पूर्ण जांच कर पात्र एवं अपात्र लोगो की सूची तैयार करने एवं कोरपीडीएस के सुचारू संचालन तथा वर्षा ऋतु के पूर्व सभी दुकानो मे पर्याप्त मात्रा मे भण्डारण कराये जाने के निर्देष दिये साथ उन्होने जिले के चिन्हित चार पंहुचविहिन ऐसे ग्राम जहां वर्षा ऋतु मे खाद्यान्न पंहुचाना कठिन होता है वहां पर राषन पंहुचाने की व्यवस्था जल्द से जल्द करने को कहा। शासन द्वारा प्रवासी श्रमिको को ध्यान मे रखकर सभी के लिए राषन तक पंहुच सुनिष्चित करने को प्राथमिकता देते हुए ऐसे श्रमिक जिनके पास राशन कार्ड नही है एवं वे राषन कार्ड हेतु पात्रता रखते है उनकी पहचान कर उन्हे आत्म निर्भर भारत योजना के अतंर्गत जोड़कर 5 किलो चांवल एवं 1 किलो चना प्रदान करने को संबंधित अधिकारियों को कहा।

ज्ञात हो कि जिले मे कुल आय मजदूरो मे 40 व्यक्ति ऐसे थे जिनके पास राशनकार्ड नही थे जिसमे से 14 राषनकार्ड हेतु पात्रता नही रखते थे शेष के लिए राषन कार्ड निर्माण की प्रक्रिया प्रारंभ कर दी गई है। साथ ही जिले के सभी पेट्रोल पंप, गैस ऐजेंसी, होटलो की सक्रिय निगरानी किये जाने के निर्देष दिये। इस अवसर पर जिला खाद्य अधिकारी शांति ध्रुव, खाद्य अधिकारी डोमेन्द्र धु्रव एवं अन्य विभागिय कर्मचारी उपस्थित थे।

आमजन को शुद्ध स्वच्छ खाद्य सामग्री उपलब्धता को सर्वाेच्च प्राथमिकता

कलेक्टर ने आम जनता कके स्वास्थ्य सुरक्षा को सर्वोपरी बताते हुए खाद्य सुरक्षा विभाग को आगामी वर्षा ऋतु मे होटल ढ़ाबो, ठेलो एवं खोमचो मे स्वच्छता एवं शुद्धता की समय-समय पर जांच कराये जाने के निर्देष दिये। ज्ञात हो कि वर्षा ऋतु मे मक्खियो एवं कीटो के द्वारा संक्रमण के प्रसार से अक्सर डायरिया एवं अन्य खाद्य संबधित बिमारियों के फैलने का खतरा बढ़ जाता है। खाद्य सुरक्षा अधिकारी डोमेन्द्र ध्रुव ने बताया कि जिले मे विगत दिनो 172 खाद्य सामग्रियो की जांच की गई है जिसमे से जांच मे 113 मानक एवं 55 अवमानक खाद्य सामग्री पाई गई। जिसमे से 52 प्रकरणो मे कोट द्वारा 70 हजार 800 रूपये जुर्माने के रूप मे प्राप्त हुए वहीं 5 प्रकरण अभी विचाराधीन है।

MyNews36 प्रतिनिधि राजीव गुप्ता की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published.