देश में कोरोना के कोहराम ने सरकार की टेंशन बढ़ा दी है। कई राज्यों में कोरोना के मामले काफी तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। रविवार को देशभर से करीब 1.60 लाख नए कोरोना केस मिले हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिगड़ते हालात की समीक्षा के लिए एक हाई लेवल मीटिंग बुलाई। इस बैठक में प्रधानमंत्री देश में कोविड-19 संक्रमण के बढ़ते मामलों के मद्देनजर वर्तमान स्थिति की समीक्षा की।समीक्षा बैठक के दौरान प्रधानमंत्री ने ज़िला स्तर पर चिकित्सा के पर्याप्त बुनियादी ढांचे को सुनिश्चित करने की आवश्यकता पर जोर दिया।प्रधानमंत्री ने मिशन मोड पर किशोरों के लिए वैक्सीनेशन अभियान को और तेज़ करने का आग्रह किया। साथ ही उन्होंने ज्यादा मामले वाले इलाकों पर बेहतर ढंग से नजर रखने और राज्यों को तमाम तकनीकी सहायता मुहैया कराने पर जोर दिया।

इस बैठक में ICMR और स्वास्थ्य मंत्रालय के तमाम प्रमुख अधिकारी मौजूद थे। पीएम मोदी उनके साथ आगे की रणनीति और कार्ययोजना पर विस्तार से चर्चा की। पीएम मोदी जल्द ही इस मुद्दे पर विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ भी बैठक करेंगे।

उधर, कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच राज्यों में कड़े एहितयाती कदम उठाए जा रहे हैं। विभिन्न राज्य सरकारें स्कूल-कॉलेज, सिनेमाघरों, रेस्तराओं आदि को बंद करने का आदेश जारी कर चुकी हैं। वहीं केंद्र सरकार भी लगातार नए गाइडलाइंस जारी कर रही है। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने साफ कह दिया है कि कोरोना की पांचवीं लहर आ चुकी है। विशेषज्ञों के मुताबिक भी फरवरी महीने में ये महामारी अपने पीक पर होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.