प्रधानमंत्री ने राष्‍ट्रीय मापिकी सम्‍मेलन-2021 का किया उद्घाटन,राष्‍ट्रीय पर्यावरण मानक प्रयोगशाला की रखी आधारशिला

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने राष्‍ट्रीय मापिकी सम्‍मेलन-2021 का उद्घाटन किया । मापिकी के बारे में बोलते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि इससे दुनिया में हमारे उत्पादों की विश्वसनीयता बढ़ती है। उन्‍होंने कहा कि जरूरत इस बात की है कि न केवल भारत में निर्मित सामानों की मांग को बढ़ावा दिया जाना चाहिए, बल्कि इसकी स्वीकृति को भी बढ़ाया देने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि भारतीय निर्देशक द्रव्‍य देश में गुणवत्ता वाले उत्पादों के निर्माण में मदद करेगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि देश उद्योग उन्मुख दृष्टिकोण से उपभोक्ता आधारित दृष्टिकोण की ओर बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि दुनिया भर में भारतीय ब्रांडों की स्वीकृति से देश में सूक्ष्‍म, लघु और मध्‍यम उद्योग और निर्यात में भी इजाफा होगा। श्री मोदी ने कहा कि विज्ञान, प्रौद्योगिकी और उद्योग के बीच बेहतर तालमेल किसी भी देश के विकास के लिए महत्वपूर्ण है।

प्रधानमंत्री ने राष्ट्रीय परमाणु समयमापक और भारतीय निर्देशक द्रव्य को भी राष्ट्र को समर्पित किया और राष्ट्रीय पर्यावरण मानक प्रयोगशाला की आधारशिला रखी। नेशनल परमाणु समय मापक, भारतीय मानक समय को दो दशमलव आठ नैनोसेकंड की सटीकता के साथ दर्शाता है। भारतीय निर्देशक द्रव्‍य का उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुरूप प्रयोगशालों को गुणवत्ता आश्वासन उपलब्‍ध कराना है। राष्ट्रीय पर्यावरण मानक प्रयोगशाला औद्योगिक उत्सर्जन निगरानी उपकरणों के प्रमाणीकरण में आत्मनिर्भरता हासिल करने में सहायता करेगी।

इस अवसर पर विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ हर्षवर्धन और वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद के महानिदेशक, शेखर मांडे और केन्‍द्र सरकार के वै‍ज्ञानिक सलाहकार प्रोफेसर विजय राघवन भी उपस्थित थे।

राष्‍ट्रीय मापिकी सम्‍मेलन 2021 का आयोजन राष्‍ट्रीय भौतिकी प्रयोगशाला नई दिल्‍ली द्वारा किया गया है, जिसने अपनी स्थापना के 75वें वर्ष में प्रवेश किया है। इस सम्‍मेलन का विषय है- देश के समावेशी विकास के लिए मापिकी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.