रायपुर – छत्‍तीसगढ़ में कोविड के बढ़ते प्रकोप की रोकथाम के लिए जिला प्रशासन की सहायता में अदाणी पावर के रायपुर एनेर्जेन लिमिटेड (आरईएल), अदाणी फाउंडेशन पिछले दो वर्षों से जुटे हुए है। इसके तहत अडाणी फाउंडेशन प्रबंधन ने आक्सीजन सिलेंडर की कमी को देखते हुए तिल्दा व खरोरा के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में आक्सीजन उत्पादन सयंत्र लगाने का कार्य शुरू किया था,जो अब साकार हो गया है। लगभग 1.50 करोड़ की लागत से स्थापित इन दोनों प्लांट से आक्सीजन का उत्पादन अब शुरू हो गया है।

उक्त दोनों स्वास्थ्य केंद्रों में संयंत्र के लिए अनुकूल जगह और जरुरी तकनीकी व्यवस्था के मुताबिक नई दिल्ली की एक कंपनी से करार कर संयंत्र लगाने का कार्य संपन्न हुआ है। बता दें कि एक स्वास्थ्य केंद्र में स्थापित किए गए संयंत्र की आक्सीजन उत्पादन क्षमता 30 क्यूबिक मीटर प्रति घंटा अर्थात प्रतिदिन करीब 100 नग सिलेंडर के बराबर है। दोनों केंद्रों से प्रतिदिन 200 नग आक्सीजन सिलेंडरों के बराबर का गैस का उत्पादन होगा। जो की इस संयंत्र से आक्सीजन गैस पाइप लाइन के जरिए अस्पताल के वार्डों के मरीजों के बिस्तर तक सीधी ही पहुंचेगी।

संयंत्र के शुभारंभ अवसर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. मीरा बघेल, मुख्य चिकित्सा अधिकारी के कार्यालय से नीष मेजरवार, अभिषेक सिंह, गजेंद्र डोंगरे मौजूद थे। अदाणी पावर के रायपुर एनर्जन से स्टेशन प्रमुख रामभव गट्टू, पृथ्वीराज लाहिड़ी, दीपक सिंह,कनक अग्रवाल व अदाणी इंटरप्राइजेज से अमित राय चौधरी उपस्थित थे।

रविवि में एक तिहाई कर्मचारी के साथ कार्यालय संचालन की मांग

पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय कर्मचारी संघ ने प्रबंधन ने एक तिहाई कर्मचारियों से कार्यालय संचालन की मांग की है। कर्मचारी संघ के अध्यक्ष श्रवण सिंह ठाकुर और सचिव प्रदीप कुमार मिश्र ने बताया कि संघ ने कोविड-19 और ओमिक्रान के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए मंत्रालय व संचनालय के तर्ज पर विवि में भी एक तिहाई कर्मचारियों को बुलाने को लेकर पत्र लिखा था। लेकिन मांगे पूरी नहीं हुई है।

मिश्र ने कहा कि करोना की दूसरी लहर में विवि के लगभग 10 नियमित व दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों को खोया है। साथ ही विवि के सेवानिवृत कर्मचारियों और कार्यरत कर्मचारी ने अपने अपने परिवार के विभिन्न सदस्यों खोया। ऐसे में संक्रमण के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए और कार्यालय में संक्रमण ना फैले व्यवस्था के तहत एक तिहाई कर्मचारियों को कार्यालय बुलाया जाए। जबकि शेष कर्मचारियों से वर्क फ्राम होम से कार्य लिए जाएं

Leave a Reply

Your email address will not be published.