ईश्वर की सबसे सुंदर रचना है एक स्त्री….
खुद संघारणी है एक स्त्री….
दिया ममत्व,दयालुता,सहनशीलता सा मूल स्वभाव सभी स्त्री को….
होती हर एक स्त्री अपनी सी,
पर होती भिन्न-भिन्न रूप व व्यवहार की…..
हर किसी की अपनी रीत जीने की,हर किसी की अपनी समझ सीखने की….
ना तोलो हर स्त्री को एक सी,
बदन की रचना जरूर है एक सी,
पर मन की रचना है भिन्न सी….
ठीक वैसे ही होता हर पुरुष भी अलग सा….
दिया गुस्सा,अभिमान,अहंकार सा मूल स्वभाव सभी नर का…
होता तो है हर पुरुष अपना सा…
पर जरूरी नहीं मूल स्वभाव हो एक सा…..
खुद रचेता है एक पुरुष भिन्न सा….
तो क्यों आके हर नर को एक सा…
हर मनुष्य की अपनी कहानी है,
कोई राजा तो….कोई रानी है….

एक छोटी सी कविता जिसमें हमनें ईश्वर की दोनों अद्भुत रचनाओं के बारे में कहा और आज का सच भी आपके सामने रखा।आज स्त्री हद से ज्यादा महत्वाकांक्षी हो गई है जिसकी वज़ह से वो किसी भी प्रकार के ग़लत कार्य करने से भी डरती नहीं है पर इसका ख़ामियाज़ा उन स्त्रियों को भुगतना पड़ रहा है जो उन जैसी नहीं है क्यों कि आज पुरुष हर स्त्री को एक ही नज़र से देख रहा है।आज उन स्त्रियों के विश्वासघात की वज़ह से उस पर कोई विश्वस नहीं कर रहा।जिस प्रकार ईश्वर ने स्त्री व पुरुष को कुछ मूल स्वभाव दे कर इस संसार में भेजे है।ठीक उसी प्रकार,ईश्वर ने उन्हें उस मूल स्वभाव को बढ़ाने व घटाने की भी क्षमता दी है।

आज के दौर में मनुष्य अपने अपने स्वभाव से अलग होता जा रहा है,जहाँ एक समय मे लोग स्त्रियों पर आंख बंद कर विश्वास करते थे वही आज उन पर गंभीर आरोप लगाएं जा रहे है,वज़ह खुद स्त्री ही है जिसने अपने मूल स्वरूप को छोड़ कर अश्लीलता व अभद्र व्यवहार पर उतर आई है।ठीक उसी प्रकार पुरूष भी अपने मूल स्वभाव से हट कर कार्य कर रहे है जिसकी वज़ह से आज कई घर टूट रहे है,कितने ही माँ-बाप शर्म से देह त्याग कर रहे है।पर सोचने का विषय ये है कि क्या हर मनुष्य एक जैसा है?,क्या हर किसी के मन में मेल,पाप,और अश्लीलता है,आज कुछ ही चंद लोग बचे है जो इन सभी विकारों से परे है पर उन्हें अपनी सत्यता साबित करनी पड़ रही है,ईमानदारी का सत्यापन देना पड़ रहा है।आज हम किस दिशा में जा रहे है ये तो खुद ईश्वर भी नहीं जानते।हम आप सभी स्त्रोतों से विनती करते है अपनी आने वाली पीढ़ी के लिए कुछ अच्छे पदचिन्हों को रखे साथ ही mynews36 के साथ जुड़े रहे ताकि हमारे समाज की अनकही,अनसुनी,अनछुई सी सच्चाई को हम आप तक पहुँचा सके और आप अपने मन मे खुद मनन कर पाएं । mynews36 के साथ यू ही बने रहे और भी अनछुई सोच पढ़ने के लिए ।

लेख- डॉ. यशा वेगड़
वुमेन्स एक्सपर्ट MyNews36.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.