office
office

रायपुर-आज के समय में किसी भी व्यक्ति के सेहत का भरोसा नहीं है।ऊपर से अनियंत्रित जीवनशैली जीने वाले लोगों के लिए स्वास्थ्य समस्या दोगुनी हो जाती है।हाल ही में,विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इंटरनेशनल क्लासिफिकेशन ऑफ डिसीस की अपनी लिस्ट में एक बीमारी को शामिल किया है,जिसका नाम ‘बर्नआऊट’ है।ये बीमारी शारीरिक थकान और तनाव से संबंधित है।आगे की स्लाइड में जाने इसके लक्षण और उपाय।

office
officee

बर्नआऊट’ क्या है?

office
office


तनाव और थकान बर्नआऊट जैसी बीमारी के मुख्य कारण हैं।जो लोग काम को पूरा करने के लिए खाना-पीना और निजी जिंदगी को भूल जाते हैं।ऐसे लोग धीरे-धीरे इस बीमारी का शिकार होने लगते हैं।WHO के अनुसार बर्नआऊट सिर्फ पेशेवर लोगों से जुड़ी समस्या है।ये ऐसा सिंड्रोम है,जो काम के अधिक दबाव की वजह से होता है।

बर्न आऊट के लक्षण,


1.हमेशा थकान महसूस होना और चिड़चिड़ा महसूस करना।
अपने काम को लेकर संदेह करते रहना।
2.ऑफिस में काम पर ध्यान नहीं लगना।
भूख नहीं लगना।
3.ड्रग या एल्कोहल लेने की इच्छा होना।
नेगेटिविटी महसूस करना।
4.दोस्तों और परिवार वालों से बात न करना।

बर्नआऊट से बचने के उपाय


1.काम को बोझ समझकर पूरा ना करें बल्कि दिलचस्पी से साथ पूरा करें,तनाव अपने आप ही खतम हो जाएगा।


2. इस बीमारी से बचने के लिए वो काम करें जिसमें आपको खुशी मिलती है।जैसे किताब पढ़ना,गाना सुनना,हरियाली में बैठना,फिल्म देखने जैसे काम कर सकते हैं।


3.इससे पहले की आप बर्नआऊट की वजह से अनिद्रा,हृदय रोग और टाइप-2 डायबिटीज के शिकार हों,अपने साथियों या बॉस से बात करें और उन्हें काम के दौरान आने वाली समस्याओं से अवगत करें ताकि वो आपको इस समस्या से निकालने में आपकी मदद कर पाएं।

4.अगर आप हमेशा तनाव में रहते हों या थकान महसूस हो,तो इससे उभरने के लिए परिवार या दोस्तों से बात करें।इससे सुकून मिलेगा और हिम्मत भी।


5.योग करें और फल,सब्जियां और फाइबर युक्त भोजन करें।समय से ऑफिस से निकलें और काम को घर पर ना ले जाएं।


6. इस बीमारी की कोई दवा नहीं है इसलिए ऐसे लक्षणों पर मनोरोग विशेषज्ञों से सलाह लेनी चाहिए और ऐसे में आप खुद ही अपनी मदद कर सकते हैं।

Summary
0 %
User Rating 0 Be the first one !
Load More Related Articles
Load More By MyNews36
Load More In राजधानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Kabir Das: जीवनभर आडंबरों पर प्रहार करते रहे संत कबीरदास,पढ़े कुछ दोहे…

संत कबीरदास आजीवन समाज में व्याप्त आडंबरों पर प्रहार करते रहे।वह कर्म प्रधान समाज के पैरोक…