रायपुर|दाऊ कल्याण सिंह (डीकेएस) सुपरस्पेशलिटी हास्पिटल से पूर्व अधीक्षक डॉ.पुनीत गुप्ता को हटाने के बाद आउट सोर्सिंग सबसे बड़ा मुद्दा बना|आकलन किया गया तो अलग-अलग कंपनियों को 4.50 करोड़ रुपये का भुगतान होना पाया गया|इसमें पैथोलॉजी,रेडियोलॉजी,सिक्योरिटी,मेडिकल स्टोर,लांड्री,डायलिसिस जैसी प्रमुख सेवाएं शामिल हैं।इसके बाद तय हुआ कि-सभी में कटौती करनी है,इसकी प्रक्रिया फरवरी में ही शुरू हो गई थी|सभी एजेंसियों को नोटिस जारी कर कहा गया कि वे अपने स्टाफ में स्वत: कटौती करना शुरू करें|144 सुरक्षा गार्ड थे,जिनकी संख्या 84 कर दी गई|

एमआरडी शाखा में आउटसोर्स पर रहे 60 कर्मचारियों को निकालने का फैसला

mynews36.com

अब एमआरडी शाखा में आउटसोर्स पर रहे 60 कर्मचारियों को निकालने का फैसला लिया गया है|इस शाखा में पहले से ही सरकारी कर्मचारी सेवारत हैं|डॉ. केके सहारे का कहना है कि-हर महीने समीक्षा की जा रही है कि-कहां पर कितने कर्मचारियों की आवश्यकता है,उसके हिसाब से ही छंटनी की जाएगी|हाउस कीपिंग,ऑफिस बॉयज,डिलीवरी बॉयज को भी निकालने की तैयारी है|स्पष्ट कर दें कि अस्पताल को भविष्य में खुद को इस रूप में स्थापित करने के निर्देश हैं कि-वह राजस्व जनरेट करे और उससे ही अस्पताल का संचालन करे|

Read More- कंटोला है दुनिया की सबसे ताकतवर सब्जी,जानिए इनके अनेकों फायदे

अस्पताल में माननीयों (मंत्री, सांसद,विधायकों) के हस्ताक्षर वाले पत्रों (लेटर हेड) पर मुफ्त इलाज आज भी हो रहा है|28 फरवरी को जब स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिहंदेव अस्पताल आए थे,तब डीकेएस प्रबंधन ने यह मुद्दा उठाया था|कहा था कि रोजाना 150 से अधिक मरीज पत्र लेकर आते हैं|उनके इलाज में 7.50 लाख रुपये खर्च होता है| उस समय मंत्री ने कहा था कि-यह समस्या यूनिवर्सल हेल्थ केयर के जरिए खत्म हो जाएगी|

Summary
0 %
User Rating 4.1 ( 2 votes)
Load More Related Articles
Load More By MyNews36
Load More In समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Monsoon:मानसून फिर हुआ सक्रिय,आज फिर तेज बारिश की संभावना

रायपुर-बरसात के मौसम में प्रदेश की जनता का पसीना छूट रहा है।किसानों का साथ के शासन,प्रशासन…