आजकल गले में खराश, जकड़न और जलन जैसी समस्या होने पर लोग तुरंत डर जाते हैं कि कहीं वो कोरोना वायरस की चपेट में तो नहीं आ गए। दरअसल ज्यादातर मामलों में कोरोना वायरस का सबसे पहला लक्षण गले में खराश, जलन और लगातार खांसी के रूप में देखा गया है। यही कारण है कि इन समस्याओं के होने पर लोग घबरा रहे हैं। हालांकि गले में होने वाली इन समस्याओं का एकमात्र कारण कोविड-19 संक्रमण नहीं है, बल्कि कई अन्य समस्याएं भी हो सकती हैं, जो बेहद आम हैं।

कॉमन कोल्ड (Common cold)

बारिश का मौसम है और इस मौसम में वायरल इंफेक्शन ज्यादा तेजी से फैलते हैं। कॉमन कोल्ड यानी सामान्य जुकाम इस मौसम में होने वाली आम समस्या है। कॉमन कोल्ड के कारण भी आपके गले के हिस्से में जकड़न, दर्द या जलन हो सकती है। इसलिए संभव है कि आपको ये समस्याएं कॉमन कोल्ड के कारण हो रही हों। कॉमन कोल्ड के अन्य लक्षण हैं- नाक बहना, छींक आना, खांसी और थकान। गले में ये समस्याएं महसूस होने पर आपको गर्म पानी, गर्म हर्बल चाय आदि पीनी चाहिए और अगर समस्या 1-2 दिन में न ठीक हो, तो डॉक्टर के पास जाकर उचित सलाह लेनी चाहिए।

फ्लू (Flu or Influenza)

कोल्ड की ही तरह फ्लू (इंफ्लुएंजा) भी बारिश के मौसम में होने फैलने वाली एक आम बीमारी है। फ्लू होने पर भी व्यक्ति के गले में दर्द, थूक निगलने में परेशानी, जलन और जकड़न जैसी समस्याएं हो सकती हैं। फ्लू के अन्य लक्षण इस प्रकार हैं- बुखार, ठंड लगना, सिरदर्द, थकान आदि। आमतौर पर फ्लू को ठीक करने के लिए आपको बहुत ज्यादा आराम करने की जरूरत पड़ती है। इसलिए इन समस्याओं के महसूस होने पर घर में रहें और हल्का भोजन करें, जैसे- वेजिटेबल सूप, दाल का पानी, चिकन सूप आदि। इसके अलावा गर्म पानी पिएं और हर्बल चाय पिएं। ध्यान रखें कि अगर 5-7 दिनों में लक्षणों में सुधार न हो या लक्षणों की गंभीरता बढ़ती जाए, तो डॉक्टर से संपर्क करके उचित सलाह लें।

स्ट्रेप थ्रोट (Strep throat)

स्ट्रेप थ्रोट गले में होने वाला एक आम इंफेक्शन है, जो Streptococcus नामक बैक्टीरिया के कारण होता है। इस समस्या का मुख्य लक्षण भी गले में खराश, गले के पिछले हिस्से में जलन, ठोस या तरल चीजें निगलने में परेशानी, उलझन आदि हैं। स्ट्रेप थ्रोट भी कॉमन कोल्ड और फ्लू की तरह ही फैलने वाला एक वायरस इंफेक्शन है और इसका खतरा भी बरसात के दिनों में ज्यादा होता है। इस समस्या के अन्य लक्षण इस प्रकार हैं- अचानक बुखार आना, मांसपेशियों में दर्द, ठंड लगना, भूख न लगना, सिरदर्द और लिम्फ नोड्स में सूजन आदि। इस समस्या के होने पर भी आपको गर्म पानी, गर्म हर्बल चाय और गर्म सूप पीना चाहिए और डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। क्योंकि आमतौर पर स्ट्रेप थ्रोट को ठीक करने के लिए एंटीबायोटिक दवाओं की जरूरत पड़ती है, जो डॉक्टर आपको दे पाएंगे। ध्यान रखें ये बीमारी भी कोरोना वायरस की तरह ही संक्रामक है, इसलिए इस बीमारी में भी आपको लोगों से दूर रहना चाहिए।

टॉन्सिलाइटिस (Tonsillitis)

टॉन्सिलाइटिस के कारण गले में स्थित टॉन्सिल्स में सूजन आ जाती है, ये लाल हो जाते हैं और पस से भरे सफेद चकत्ते आ जाते हैं। टॉन्सिलाइटिस की समस्या के कारण भी गले में दर्द, गले में जकड़न, जलन और खाना-पानी निगलने में परेशानी होती है। वैसे तो टॉन्सिलाइटिस की समस्या 4-10 दिन में अपने आप ठीक हो जाती है, लेकिन अगर आपको तकलीफ ज्यादा हो, तो आप डॉक्टर से जरूर संपर्क करें। टॉन्सिलाइटिस के कारण भी आपको बुखार आ सकता है, लेकिन इसमें आपको जुकाम वाले लक्षण नहीं दिखेंगे।

एसिड रिफलक्स (Acid Reflux or GERD)

गले के साथ-साथ अगर सीने में जलन, दर्द और चुभन की समस्या हो तो समझ लें कि ये एसिड रिफलक्स हो सकता है। ये समस्या आमतौ पर बहुत ज्यादा तीखा, मिर्च, मसालेदार भोजन करने, अपनी क्षमता से ज्यादा खा लेने, खाने के बाद तुरंत सो जाने, ज्यादा कॉफी पीने, देर रात में खाना खाने के कारण होती है। इस समस्या का मूल कारण यह है कि आपके पेट में खाने को पचाने के लिए बनने वाला एसिड निकलकर आपके सीने और गले के हिस्से में पहुंच जाता है। एसिड रिफलक्स होने पर खानपान में बदलाव करके या कुछ सामान्य दवाएं लेकर आप इसे बहुत जल्दी ठीक कर सकते हैं।

इसलिए अगर आपको किसी दिन सुबह उठने के बाद गले में जलन, खराश या थूक निगलने में तकलीफ जैसे लक्षण दिखें, तो घबराएं नहीं। क्योंकि संभव हो ये कोरोना वायरस नहीं, बल्कि किसी और तरह का वायरल इंफेक्शन या समस्या हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

स्वामित्व अधिकारी एवं संचालक-मनीष कुमार साहू,मोबाइल नंबर- 9111780001 चीफ एडिटर- परमजीत सिंह नेताम ,मोबाइल नंबर- 7415873787 पता- चोपड़ा कॉलोनी-रायपुर (छत्तीसगढ़) 492001 ईमेल -wmynews36@gmail.com