रायपुर MyNews36 – निवेदिता शंकर रायपुर छत्तीसगढ़ की एक ऐसी सितार वादक हैं जिन्होंने ने अपनी कला से देश भर में अपनी एक पहचान बनाई है।छत्तीसगढ़ की तो वे अकेली स्त्री सितार वादक हैं, जिन्होंने सितार वादन में उल्लेखनीय योगदान दिया है।
उन्होंने यह पहचान बहुत श्रम से अनेक वर्षों की तपस्या के जरिए बनाई है।वास्तव में वे देशभर की गिनी चुनी युवा स्त्री सितार वादकों में से एक हैं, जिनके पास सितार का सम्पूर्ण बाज है।

वे सितार वादन के हर आयाम में दक्ष हैं- सुन्दर रचनाओं से आलाप-जोड़, बोल-बांट, बढ़त, मींड़, गमक, क्रंतन, जमजमा, खट्का, झाला आदि उनके वादन में एक रचनात्मक सम्पूर्णता में संतुलित ढंग से स्थान पाते हैं। वे उन वादकों में हैं जो गति और अजूबे स्वर रचनाओं के जरिए चमत्कार पैदा कर श्रोता को अवाक कर के रख देने के बजाय हाथ की तैयारी से सृजित मिठास भरे वादन से श्रोता का दिल जीतने में विश्वास रखते हैं।

शास्त्रीय वादन के साथ-साथ गायन में निश्नात होने के कारण निवेदिता के वादन में तंत्रकरी एवं गायिकी, दोनों अंगों का संतुलन मौजूद है, जो उनके वादन को एक अलग व्यक्तित्व देता है। सितार के दोनों प्रमुख घरानों-  मैहर घराना एवं इमदाद खानी घराना-  के गुरुओं से प्रशिक्षित होने के चलते उनके वादन में दोनों की खासियतें मौजूद हैं। एक अच्छे फनकार की तरह इन सब के बीच उन्होंने अपना एक मुन्फ़रिद बाज भी विकसित किया है, जो एकदम अलग, उनका अपना है।

आज जब हर तरफ छुद्र कलाओं तथा फिल्मी संगीत के उत्साहवर्धन का वातावरण है, ऐसे में निवेदिता जैसी एकनिष्ठ होकर शास्त्रीय संगीत को समर्पित कलाकार का स्वागत किया जाना चाहिए। रायपुर, छत्तीसगढ़ की इनी-गिनी संस्थाएं ही ऐसा कर रही हैं जिनमें दीपक व्यास द्वारा स्थापित गुनरस पिया फाउंडेशन प्रमुख है। खुशी का विषय है कि रविवार, 19 दिसंबर 2021 को फाउंडेशन के फेसबुक पेज पर निवेदिता अपने सितार के साथ लाइव हो रही हैं।तो आप भी फ़ेसबुक पर निवेदिता शंकर के कलात्मक वादन को सुनने के लिए हो जाइये तैयार और दे अपना आशिर्वाद और प्यार

Leave a Reply

Your email address will not be published.