Navodaya JNV Result 2019

रायपुर- नवोदय विद्यालय समिति (NVS) ने छठी कक्षा के परीक्षा परिणाम जारी कर दिए हैं।स्टूडेंट्स और अभिभावक अपना परिणाम नवोदय की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर देख सकते हैं।हालांकि नवोदय विद्यालय की ऑफिशियल वेबसाइट काम नहीं कर रही है,जिसके कारण बच्चे अपना परिणाम देखने में असमर्थ हैं। परीक्षा 6 अप्रैल को आयोजित हुई थी।हर वर्ष जवाहर नवोदय विद्यालय चयन प्रवेश परीक्षा आयोजित करती है।रिजल्ट डाउनलोड करने सम्बंधित सारी जानकारी इस पोस्ट के नीचे में दी गयी है।दिए गए स्टेप को फॉलो कर आप आसानी ने रिजल्ट डाउनलोड कर रहे है।हम हर दिन शिक्षा व नौकरी से जुड़े नए-नए खबर आपके समक्ष साझा करते रहते है। mynews36 से जुड़े रहने के आप हमारे Whatsapp Group व Facebook Page से जुड़ सकते है साथ ही गूगल प्ले स्टोर पर जाकर mynews36 app भी डाउनलोड कर सकते है।हमें आशा है कि-यह पोस्ट आपको अच्छा लगा होगा।आपसे एक छोटा सा निवेदन है कि-छात्र हित में यह खबर आगे शेयर करें,ताकि बाकि छात्रों को दिक्कतों का सामना करना न पड़े।वह आसानी से अपना रिजल्ट प्राप्त कर सके।

आपको बता दें कि नवोदय विद्यालय समिति ने इस वर्ष लगभग 600 से अधिक नवोदय विद्यालयों में कक्षा छठी में प्रवेश के लिए JNVST 2019 परीक्षा आयोजित कराई थी। इस परीक्षा में दो घंटे का समय तय किया गया था। निर्धारित समय में छात्रों को 100 अंकों के वस्तुनिष्ठ प्रकार के प्रश्नों को हल करने थे।

JNVST 2019: कक्षा छठी के परीक्षा परिणाम ऐसे करें डाउनलोड-

Step 1: सबसे पहले NVS की आधिकारिक वेबसाइट navodaya.gov.in पर जाएं।

Step 2: उसके बाद होम पेज पर दिए गए रिजल्ट लिंक पर क्लिक करें|

Step 3: पंजीकरण संख्या और पासवर्ड दर्ज करें और परिणाम देखने के लिए सबमिट बटन पर क्लिक करें।

Step 4: अब अपने परीक्षा परिणामों को डाउनलोड करें।

Step 5: एक प्रिंटआउट आगे की प्रक्रिया के लिए सुरक्षित रख लें।

आधिकारिक वेबसाइट के लिए यहां क्लिक करें।

Whatsapp Group में जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें

Summary
0 %
User Rating 4.7 ( 1 votes)
Load More Related Articles
Load More By MyNews36
Load More In बड़ी ख़बर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Kabir Das: जीवनभर आडंबरों पर प्रहार करते रहे संत कबीरदास,पढ़े कुछ दोहे…

संत कबीरदास आजीवन समाज में व्याप्त आडंबरों पर प्रहार करते रहे।वह कर्म प्रधान समाज के पैरोक…