MyNews36 Exclusive

घुमका/संवाददाता- लगातार विवादों में रहने वाले कृषक सेवा सहकारी समिति घुमका अभी भी कई गंभीर शिकायतों व विवादों से घिरा हुआ है।कर्मचारियों की छटनी से लेकर मनमाफिक दैनिक वेतनभोगी कर्मचारियों की भर्ती का मामला चाहे लिंकिंग से ऋण वसूली के खाते से 25 लाख रुपए की गड़बड़ी का मामला या फिर मृत व्यक्ति के नाम पर नामांकन दाखिल कर निर्वाचित हो जाने का मामला कई तरह के फर्जीवाड़े से घिरी घुमका सोसाइटी में खाद बीज के स्टॉक में काफी घालमेल और ऋण माफी में भारी गड़बड़ी का मामला बताया जा रहा है।जिले की सबसे बड़ी सोसायटी कृषक सेवा सहकारी समिति घुमका में प्रतिवर्ष सैकड़ों ट्रक खाद की बिक्री होती है और कमोबेश इसी अनुपात में खरीफ और रबी फसलों के बीज की बिक्री होती है।

विश्वस्त सूत्रों के अनुसार खाद बीज की बिक्री और स्टॉक संधारण समायोजन में भारी गड़बड़ी एवं अंतर बताया जा रहा है।इस तरह का अंतर विगत तीन-चार वर्षों से होना बताया जा रहा है सूत्रों के अनुसार संचालक मंडल के कुछ पदाधिकारी एवं कथित तौर पर एक लेखापाल की मिलीभगत से इस तरह की गड़बड़ी को अंजाम देना बताया जा रहा है।इस वर्ष अब तक के कुल आवक और वितरण का अगर हिसाब लगाया जाए और उक्त मामले की बारीकी से जांच की जाए तो पूरा मामला स्पष्ट हो जाएगा।

इससे भी बड़ी गंभीर एक और मामले की जानकारी के अनुसार ऋण माफी के मामले में सोसायटी के उक्त कर्ताधर्ता ओं की जुगलबंदी से अलग तरह के घोटाले को अंजाम देना बताया जा रहा है।जिसके अनुसार बीते साल विधानसभा चुनाव में सत्तारूढ़ कांग्रेस पार्टी ने 30 नवंबर तक के लिए हुए समस्त प्रकार के ऋण माफ करने का घोषणा पत्र जारी किया था इस बात का फायदा उठाते हुए 30 नवंबर तक की स्थिति में खाद बीज का स्टॉक केंद्रीय सहकारी बैंक घुमका के माध्यम से निरंक की जानकारी लगातार भेज दी गई थी और चालाकी पूर्वक लाखों रुपए का खाद बीज समिति के गोदाम में रखा हुआ था।

ऋण माफी के आड़ में अपने चहेतों के नाम पर दिसंबर 2018 में पिछली तारीख में कई किसानों के नाम पर फर्जी परमिट काटकर खाद बिक्री दर्शा दिया गया और इन किसानों को 30 नवंबर की स्थिति में ऋणी कृषक दर्शा दिया गया जिसके चलते लाखों रुपए के खाद बीज को बड़ी चालाकी से विक्रीकर दिया गया और वही उक्त किसानों को उस अवधि तक का ऋणी कृषक दर्शाते हुए उनके नाम पर ऋण माफी का लाखों रुपए अंदर कर लिया गया।जिसका सबसे बड़ा प्रमाण परचेज ऑन सेल(पी ओ एस) मशीन में थंब इंप्रेशन के माध्यम से खाद वितरण की तारीख की जांच आसानी से की जा सकती है वहीं दस्तावेजों का हेरफेर भी बारीकी से जांच करने पर आसानी से पकड़ा जा सकता है क्योंकि वास्तविक किसान ऋण माफी और खाद बीज लेने के नाम पर आज तक सोसायटी के चक्कर काट रहे हैं।

परंतु बड़ी चालाकी से कुछ कर्मचारियों एवं संचालक मंडल के कर्ता-धर्ता ओं के मिलीभगत से फर्जी किसानो को आसानी से बगैर परमिट कांटे अथवा फर्जी परमिट के सहारे ऋण बांट दिया जा रहा है और वास्तविक किसान आज भी चक्कर काट रहें हैं कुल मिलाकर लगातार गड़बड़ियों का सिलसिला घुमका सोसाइटी में थम नहीं रहा है जबकि वित्त पोषक जिला सहकारी केंद्रीय बैंक घुमका शाखा के शाखा प्रबंधक एवं पर्यवेक्षक का सीधा नियंत्रण उक्त सोसाइटी में होना बताया जा रहा है के बावजूद भी इस तरह की गड़बड़ियों को आखिर क्यों नजरअंदाज किया जा रहा है बहर हाल खाद बीज के स्टॉक में भारी गड़बड़ी की चर्चा जोरों पर है चूंकि घुमका सोसाइटी में सैकड़ों किसान परमिट कट जाने के बाद भी विगत पखवाड़े भर से चक्कर काट रहे हैं और उन किसानों को खाद नहीं होने का रोना रोया जा रहा है जबकि बगैर परमिट के कई किसानों को फर्जी ढंग से खाद और बीज का वितरण कर दिया गया वर्तमान में सोसाइटी का स्टाक निरंक बताया जा रहा है जबकि परमिट लेजर और वितरण की स्थिति तथा स्टाक का मिलान बारीकी से किया जाए तो वर्तमान की गड़बड़ी से लेकर पूर्व की गड़बड़ी एक साथ सामने आ सकती है और ऋण माफी के आड़ में किए गए लाखों की हेराफेरी का भंडाफोड़ हो सकता है

मैंने वैसे भी खाद बीज के स्टॉक सत्यापन के लिये कर्मचारियों को आदेश दिया है इस मामले की भी बारीकी से जांच करवाता हूं,अगर गड़बड़ी हुई हो तो कड़ी से कड़ी कार्यवाही होगी। -सुनील वर्मा ,CEO, जिला सहकारी बैंक-राजनांदगांव

Add By MyNews36

हमारे इस mynews36 पोर्टल  में प्रतिदिन नए-नए सरकारी,प्राइवेट नौकरी व अन्य प्रकार की ख़बरों की जानकारी प्रदान की जाती है।अगर आप भी ख़बरों के प्रति इंट्रेस्टेड रखते है तो सबसे पहले अपडेट पाने के लिए अभी गूगल प्लेस्टोर पर जाकर mynews36 App डाउनलोड  कर सकते है।साथ ही हमारे WhatsApp Group  व फेसबुक पेज में भी जाकर जानकारी प्राप्त कर सकते।अगर आपको यह खबर अच्छा लगा तो इस खबर को आगे शेयर करें ताकि कोई इस खबर से वंचित न हो,सभी लोगों को अच्छी जानकारी मिल सके।

Summary
0 %
User Rating 3.95 ( 1 votes)
Load More Related Articles
Load More By MyNews36
Load More In एक्सक्लूसिव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Motivate:माँ-बाप का साथ छोड़ कर अब सबको करती हैं मोटिवेट ऐमी

अमेरिका-अमेरिका की रहने वाली 37 साल की एमी ब्रूक्स को जन्म के बाद ही मां-बाप ने छोड़ दिया …