रायपुर – बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना चक्रवाती तूफान ‘असानी’ पूर्वी तट के करीब पहुंच चुका है और अगले 24 घंटे के दौरान इसके भीषण तूफान में बदलने की आशंका है। मौसम विभाग के मुताबिक ये अभी आंध्र प्रदेश के काकीनाडा से लगभग 300 किलोमीटर दक्षिण-पूर्व में है, लेकिन जल्द ही इसके आंध्र के तटीय इलाकों में पहुंचने की संभावना है। मौसम विभाग ने इसकी रफ्तार को देखते हुए आंध्र प्रदेश में रेड एलर्ट जारी किया है। इस तूफानी चक्रवात के कारण 105 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलने और भारी बारिश की संभावना जताई गई है। दक्षिण भारत के कई राज्यों में बारिश शुरु हो गई है और पूर्वी तट में इसका असर अभी से देखा जा रहा है।

मौसम विभाग ने किया एलर्ट

IMD ने आंध्र प्रदेश के लिए एलर्ट जारी करते हुए कहा है कि चक्रवाती तूफान 11 मई को सुबह 0830 बजे तक श्रीकाकुलम, विजयनगरम, विशाखापत्तनम, पूर्वी गोदावरी, कृष्णा, गुंटूर और पश्चिम गोदावरी जिलों में अलग-अलग स्थानों पर प्रवेश करेगा। इसके प्रभाव से इन इलाकों में 40-60 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाओं के साथ भारी से बहुत भारी वर्षा का अनुमान है। आईएमडी ने ओडिशा के मलकानगिरी, गजपति, गंजम, पुरी आदि जिलों के लिए अगले 24 घंटों के लिए भारी से बहुत भारी वर्षा की चेतावनी दी गई है। मछुआरों को 13 मई तक ओडिशा तट के आसपास या समुद्र में न जाने की सलाह दी गई है।

प्रशासन ने किये व्यापक इंतजाम

उड़ीसा सरकार ने कहा है कि चक्रवाती तूफान से निपटने के लिए आपात स्थितियों सहित किसी भी संभावित खतरे से लोगों को बचाने के लिए 179 चक्रवात आश्रयों की स्थापना की है। यदि आवश्यक हुई तो पुरी जिले के निचले इलाकों में भी निकासी प्रक्रिया शुरू करने की तैयारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.