MatchBox : अब भारत में आग जलाना भी महंगा,14 साल बाद बढ़ेंगे माचिस के दाम

नई दिल्ली – MatchBox : आने वाले समय में भारत में आग जलाना भी महंगा हो जाएगा।दरअसल, 14 साल बाद माचिस ( MatchBox ) के दाम दोगुने होने वाले हैं

दरअसल, माचिस की डिब्बी के दाम बढ़ाने का फैसला फैसला ऑल इंडिया चैंबर ऑफ मैचेस की बैठक में लिया गया।बैठक में 5 प्रमुख माचिस उद्योग निकायों के प्रतिनिधि शामिल थे।बैठक में सर्वसम्मति से माचिस के दाम बढ़ाने का फैसला किया गया।

अब तक बाजार में माचिस 1 रुपए में मिल रही थी,लेकिन 1 दिसंबर से माचिस के भाव बढ़कर 2 रुपए हो जाएंगे अर्थात माचिस के दाम दोगुने हो जाएंगे।

बैठक में चर्चा की गई कि चूंकि कच्चे माल के दाम बढ़ चुके हैं, ऐसे में माचिस के दाम बढ़ाना आवश्यक हो गया है। माचिस बनाने के लिए मुख्य तौर पर लाल फास्फोरस, मोम, बॉक्स बोर्ड आदि की आवश्यकता होती है। चूंकि डीजल के दाम बढ़ने से ट्रांसपोर्टेशन महंगा हुआ है, अत: माचिस बनाने के काम में आने वाला कच्चा माल भी महंगा हो गया है।

बैठक में चर्चा की गई कि चूंकि कच्चे माल के दाम बढ़ चुके हैं, ऐसे में माचिस के दाम बढ़ाना आवश्यक हो गया है। माचिस बनाने के लिए मुख्य तौर पर लाल फास्फोरस, मोम, बॉक्स बोर्ड आदि की आवश्यकता होती है। चूंकि डीजल के दाम बढ़ने से ट्रांसपोर्टेशन महंगा हुआ है, अत: माचिस बनाने के काम में आने वाला कच्चा माल भी महंगा हो गया है। बैठक में चर्चा की गई कि चूंकि कच्चे माल के दाम बढ़ चुके हैं, ऐसे में माचिस के दाम बढ़ाना आवश्यक हो गया है। माचिस बनाने के लिए मुख्य तौर पर लाल फास्फोरस, मोम, बॉक्स बोर्ड आदि की आवश्यकता होती है। चूंकि डीजल के दाम बढ़ने से ट्रांसपोर्टेशन महंगा हुआ है, अत: माचिस बनाने के काम में आने वाला कच्चा माल भी महंगा हो गया है। बैठक में चर्चा की गई कि चूंकि कच्चे माल के दाम बढ़ चुके हैं, ऐसे में माचिस के दाम बढ़ाना आवश्यक हो गया है। माचिस बनाने के लिए मुख्य तौर पर लाल फास्फोरस, मोम, बॉक्स बोर्ड आदि की आवश्यकता होती है। चूंकि डीजल के दाम बढ़ने से ट्रांसपोर्टेशन महंगा हुआ है, अत: माचिस बनाने के काम में आने वाला कच्चा माल भी महंगा हो गया है। बैठक में चर्चा की गई कि चूंकि कच्चे माल के दाम बढ़ चुके हैं, ऐसे में माचिस के दाम बढ़ाना आवश्यक हो गया है। माचिस बनाने के लिए मुख्य तौर पर लाल फास्फोरस, मोम, बॉक्स बोर्ड आदि की आवश्यकता होती है। चूंकि डीजल के दाम बढ़ने से ट्रांसपोर्टेशन महंगा हुआ है, अत: माचिस बनाने के काम में आने वाला कच्चा माल भी महंगा हो गया है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.