Mynews36
!! NEWS THATS MATTER !!

घुमका क्षेत्र में लूट मचा रखी है कई फाइनेंस कंपनियां,गावों के लोगों को बना रहा कंगाल

finance companies have looted,finance companies have looted

गांव -गांव में कंपनी के कमीशन खोर दलाल सक्रिय

finance companies have looted

राजनांदगांव/घुमका-क्षेत्र में इन दिनों कई माइक्रोफाइनेंस कंपनियों का जाल फैला हुआ है और स्थानीय ग्रामीण युवक इस कंपनी के कमीशन एजेंट के बतौर काम कर रहे हैं।माइक्रो फाइनेंस कंपनियां केवल आधार कार्ड के आधार पर हजारों रुपए ग्रामीण महिलाओं को कर्ज में बांट रहे हैं,कर्ज देने के बाद मासिक किस्तों के रूप में 20% से अधिक ब्याज दर से सख्ती पूर्वक वसूल की जा रही है।इस कंपनी के मकड़जाल और लुभावने बातों में फंसकर ग्रामीण महिलाएं और उनके परिवार कर्ज तले दबकर बुरी तरह परेशान हो रहे हैं।

ऐसा ही एक वाकया ग्राम गोपालपुर में अत्यंत गरीब ग्रामीण परिवार के साथ हुआ है।जहां उक्त परिवार कर्ज तले दबे होने के कारण वसूली से त्रस्त होकर माइक्रोफाइनेंस कंपनियों के वसूली एजेंट के दबाव और धमकी से त्रस्त हो गए।जिसके बाद उस महिला का पति गले और कलाई के नसों को काटकर आत्महत्या की कोशिश तक कर लिया।घायल युवक को मेडिकल कॉलेज राजनंदगांव रिफर किया गया।जहां बमुश्किल उसकी जान बच पाई।

खबरों के अनुसार-माइक्रोफाइनेंस कंपनियों के कथित मैनेजर और वसूली एजेंट तथा स्थानीय दलाल पहले जरूरतमंद सीधे-साधे ग्रामीण परिवारों से संपर्क करते हैं,उसके बाद 4 लोगों का समूह बनाया जाता है फिर आधार कार्ड मांगने के बाद कई कोरे फार्म में हस्ताक्षर करा लिया जाता है।ऋण स्वीकृत होने के बाद स्थानीय दलाल 10% कमीशन भी हड़प लेते हैं ग्राम गोपालपुर एवं भालू कोन्हा के दो दो महिलाओं का समूह बनाकर 30 हजार रुपए का लोन स्वीकृत करते हैं इसके बाद मासिक किस्तों के रूप में वसूली की जाती है।मासिक किस्त नहीं मिलने की स्थिति में चल अचल संपत्ति या घर द्वार बेचकर ऋण वसूली की धमकी देते हैं।इन धमकियों से परेशान ग्रामीण महिलाएं और उनका परिवार बुरी तरह भयभीत हो रहे हैं।इसी चक्कर में एक महिला का पति आत्महत्या की कोशिश कर चुका है।कर्ज स्वीकृति से लेकर वसूली तक की प्रक्रिया इतनी उलझी हुई है कि-समूह के सभी लोगों को एक साथ कर्ज स्वीकृत किया जाता है और वसूली भी एक साथ की जाती है समूह के एक भी कर्जदार द्वारा यदि भुगतान नहीं किया गया तो समूह के सभी सदस्यों को जमकर प्रताड़ित किए जाने की शिकायतें भी आई है ।

इन्हीं शिकायतों से ग्राम गोपालपुर के पीड़ित परिवार शेख नबी,पिता शेख मोहम्मद एवं शेख मोहम्मद,पिता शेख सम्मी भी हैं जो कि अत्यंत गरीब परिवार से ताल्लुक रखते हैं और इन दोनों परिवारों को तीस-तीस हजार रुपए का कर्ज दिया गया है।वह भी केवल आधार कार्ड के आधार पर जिनका मासिक भुगतान 4 महीने तक लगातार हुआ परंतु अचानक इस महीने भुगतान नहीं कर पाने की स्थिति में शेख नबी की पत्नी को वसूली एजेंटों द्वारा घर बेच देने की धमकी दिए जाने से भयभीत महिला अपने परिवार जनों को बताई धमकी और दबाव से परेशान महिला का पति शेख नबी धारदार ब्लेड से गले और कलाई की नस पर चोट पहुंचाकर आत्महत्या करने की कोशिश किया बहर हाल घायल युवक का उपचार जारी है।परंतु एल एंड टी कंपनी के माइक्रो फाइनेंस का कार्य घुमका के आस-पास ग्रामीण क्षेत्रों में लगातार चल रहा है।इसी कंपनी के ऊपर उक्त परिवार जनों को धमकाया जाने का आरोप लगा है।ग्रामीण क्षेत्रों में माइक्रो फाइनेंस कंपनी की ओर से बेतहाशा कर्ज बांटकर अनाप-शनाप वसूली किए जाने के कारण कई परिवार बर्बादी के कगार पर पहुंच गए हैं।यहाँ तक कि उक्त पीड़ित शेख नबी वसूली से परेशान हो आत्मघाती कदम उठाने के बाद भी कर्ज़ की क़िस्त पटाने एक एजेंट ने पीड़ित की बूढ़ी मां के चांदी के जेवर  और मोबाइल रखकर  एजेंट के मार्फ़त क़िस्त जमा कराया।परंतु प्रशासन और पुलिस को अभी तक इस तरह के कर्ज के अवैध कारोबार की खबर तक नहीं है।

सूत्रों के अनुसार-कर्जा एक्ट के मापदंडों का खुलेआम उल्लंघन किया जा रहा है और ग्रामीण बुरी तरह ठगे जा रहे हैं।

ऐसा कोई भी हरकत हमारी कम्पनी द्वारा नही की जाती फिर भी इस मामले में मैं अपने स्तर पर जांच करवाता हूँ -पवन कुमार साहू,एल एंड टी फाइनेंस,खैरागढ़ ब्रांच

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.