Makar Sankranti

मकर संक्रांति (Makar Sankranti) का त्यौहार पौष माह की शुक्ल पक्ष की द्वादशी तिथि को इस साल 14 जनवरी को मनाया जाएगा। इस दिन सूर्य और शनि एक साथ मकर राशि में विराजमान होंगे। भारतीय ज्योतिष में सूर्य को नवग्रहों का स्वामी माना जाता है। मान्यता है कि सूर्य अपनी नियमित गति से राशि परिवर्तन करता है। सूर्य के इसी राशि परिवर्तन को संक्रांति कहा जाता है। इस तरह साल में 12 संक्रांति तिथियां पड़ती हैं। जिनमें से मकर संक्रांति (Makar Sankranti) सबसे महत्वपूर्ण है। हिंदू धर्म और ज्योतिष के अनुसार मकर संक्रांति के दिन सूर्यदेव धनु राशि से निकलकर मकर राशि में प्रवेश करते हैं। कहा जाता है कि इसी दिन से उत्तरायण शुरू हो जाता है। हिन्दू गणना में मकर संक्रांति के दिन को बहुत शुभ और विशेष माना जाता है। इस दिन सूर्य दक्षिणायन से उत्तरायण होते हैं। मकर संक्रांति के दिन ग्रहों के राजा सूर्य धनु राशि को छोड़कर अपने पुत्र शनि की राशि में आते हैं। इस पर्व के साथ ही करीब एक महीने से जारी खरमास समाप्त होता है और रूके हुए सभी शुभ और मांगलिक कार्य एक बार फिर से शुरू हो जाते हैं। ज्योतिर्विद के अनुसार इस वर्ष संक्रांति देवी का वाहन बाघ और उपवाहन अश्व होगा। संक्रांति देवी पीले वस्त्र पहनकर दक्षिण दिशा की ओर चलेंगी। मकर संक्रांति पर इस बार शत्रुओं का हनन होगा और बाधाएं नष्ट होंगी। शुक्रवार का दिन होने की वजह से मां लक्ष्मी की कृपा भी बनी रहेगी। ज्योतिषियों के अनुसार उत्तरायण देवताओं का दिन है और दक्षिणायन देवताओं की रात्रि है। दक्षिणायन की तुलना में उत्तरायण में अधिक मांगलिक कार्य किए जाते हैं। सूर्य जब कर्क राशि में प्रवेश करते हैं तो दक्षिणायन शुरू हो जाता है और सूर्य जब मकर राशि में प्रवेश करता है तो उत्तरायण प्रारंभ हो जाता है।

मकर संक्रांति का पौराणिक महत्व

मकर संक्रांति के दिन भगवान विष्णु ने पृथ्वी लोक पर असुरों का संहार उनके सिरों को काटकर मंदरा पर्वत पर फेंका था। भगवान की जीत को मकर संक्रांति (Makar Sankranti) के रूप में मनाया जाता है। मकर संक्रांति से ही ऋतु में परिवर्तन होने लगता है। इसके बाद बसंत ऋतु का आगमन आरंभ हो जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार मकर संक्रांति के दिन सूर्यदेव अपने पुत्र शनिदेव के घर जाते हैं। ऐसे में पिता और पुत्र के बीच प्रेम बढ़ता है। इस दिन भगवान सूर्य और शनि की अराधना शुभ फल देने वाला होता है। इस दिन सूर्य के मकर राशि में प्रवेश करने के साथ उत्तरायण होना शुरू हो जाता है। इसलिए ही इस दिन को उत्तरायण भी कहते हैं। इस दिन से दिन बड़े और रातें छोटी होना शुरू हो जाती हैं। शीत ऋतु का प्रभाव कम होने लगता है। इस दिन शनि देव के लिए प्रकाश का दान करना भी बहुत शुभ होता है। इसके अलावा मकर संक्रांति के दिन पतंग उड़ाने की भी परंपरा है। पौराणिक कथाओं के अनुसार मकर संक्रांति के दिन प्राण निकलने से व्यक्ति का पुनर्जन्म होने के बजाए सीधे ब्रह्म लोक की प्राप्ति होती है। यही कारण है कि भीष्म पितामह ने 58 दिनों तक बाणों की शैया पर रहने के बाद प्राण त्यागने के लिए सूर्य के उत्तरायण का इंतजार किया था।

दान-पुण्य और स्नान का विधान

ज्योतिषियों के अनुसार मकर संक्रांति पर सूर्य और भगवान विष्णु की पूजा का विधान है। इस दिन भगवान को तांबे के पात्र में जल, गुड़ और गुलाब की पत्तियां डालकर अर्घ्य दिया जाता है। गुड़, तिल और मूंगदाल की खिचड़ी का सेवन कर इन्हें गरीबों को बांटा जाता है। इस दिन गायत्री मंत्र का जाप करना भी बड़ा शुभ बताया गया है। इस दिन पवित्र नदी में स्नान करने, तिल-गुड़ खाने तथा सूर्य को अर्घ्य देने का महत्व है। इस दिन दान में वस्त्र, धन और धान का दान भी किया जाता है। साथ ही इस दिन उड़द, चावल, तिल, चिवड़ा, गौ, स्वर्ण, ऊनी वस्त्र, कम्बल आदि दान करने का अपना महत्त्व है। हिन्दू पंचांग के मुताबिक इस दिन श्रीहरि के माधव रूप की पूजा और भगवान सूर्य की पूजा तथा व्रत आदि करने से उपासक को राजसूय यज्ञ का फल प्राप्त होता है। साथ ही इस दिन तर्पण करने से पितरों को भी मुक्ति मिलती है। इस दिन गंगा, यमुना आदि पवित्र नदियों में पवित्र गंगा स्नान, व्रत, कथा, दान और भगवान सूर्यदेव की उपासना करने का विशेष महत्त्व है। इस दिन किया गया दान अक्षय फलदायी होता है।

29 साल बाद दुर्लभ संयोग

ज्योतिषियों के अनुसार इस साल 14 जनवरी को 29 साल बाद दुर्लभ संयोग बन रहा है जब सूर्य और शनि ग्रह एक साथ मकर राशि में होंगे। ऐसा योग पहले 1993 में बना था। पौष माह में मकर संक्रांति के दिन शुक्ल के बाद ब्रह्म योग रहेगा। साथ ही आनन्दादि योग में मकर संक्रांति मनेगी। इस दिन रोहिणी नक्षत्र रहेगा। इस बार मकर संक्रांति शुक्रवार युक्त होने के कारण मिश्रिता है।

आलेख : केशव पाल (पत्रकारिता छात्र)
ग्राम- मढ़ी (बंजारी) तिल्दा-नेवरा
रायपुर (छ.ग.)
मो. न.- 9165973868

Leave a Reply

Your email address will not be published.