Made in India Tab जिसका सपना अधूरा ही रह गया, 1130 रुपये में हुआ था लॉन्च

)

जब भी मेड इन इंडिया प्रोडक्ट की बात होती है तो लोगों की जेहन में पहला ख्याल सस्ते प्रोडक्ट का आता है। आज देश का आम बजट 2021 पेश हो रहा है। भारत के आम बजट के इतिहास का यह पहला बजट है जो पूरी तरह से पेपरलेस है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण पहली बार मेड इन इंडिया टैबलेट पर बजट पेश कर रही हैं। इस टैबलेट को लेकर चर्चा यह है कि यह Apple iPad है, हालांकि अभी तक इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई है।

मेड इन इंडिया टैबलेट को लेकर सोशल मीडिया पर तमाम तरह के दावे किए जा रहे हैं लेकिन आपकी जानकारी के लिए बता दें कि एपल से लेकर सैमसंग तक के टैबलेट फिलहाल भारत में तैयार नहीं होते हैं। Lenovo ने कुछ दिन पहले कहा था कि वह भारत में अपने टैबलेट का प्रोडक्शन शुरू करेगी, वहीं एपल को लेकर भी खबर है कि वह आईपैड के प्रोडक्शन को चीन से हटाकर भारत लाने की तैयारी कर रही है।

Aakash Tablet जो सपना रह गया
Aakash को लेकर लोगों की उम्मीदें थी कि यह पहला मेड इन इंडिया टैबलेट होगा जो हर भारतीय हाथों में होगा। Aakash टैबलेट को कनाडा की कंपनी डाटाविंड ने पेश किया था। कंपनी ने पहला टैबलेट 2011 में सब्सिडी के साथ 1,130 रुपये में लॉन्च किया था। आकाश टैबलेट दुनिया का सबसे सस्ता एंड्रॉयड टैबलेट था, लेकिन 2019 में कंपनी ने टैबलेट बनाना बंद कर दिया।

मेरा अधूर सपना ‘आकाश टैबलेट’: कपिल सिब्बल
2013 में दूरसंचार मंत्री रहे कपिल सिब्बल ने आकाश टैबलेट को अपना सपना कहा था। दिसंबर 2013 में अपने एक बयान में सिब्बल ने कहा था कि कम कीमत में आकाश टैबलेट का मेरा सपना अधूरा रह गया। सिब्बल ने ई-समावेशी परियोजना कार्यक्रम के शुभारंभ के मौके पर ये बाते कही थीं। सिब्बल ने कहा था कि कुछ विभागों ने आकाश टैबलेट को एक मुकाम तक पहुंचाने में उनका सहयोग नहीं किया था। 

कपिल सिबब्ल जब (2011) मानव संसाधन विकास मंत्री थे तब उन्होंने कहा था कि आकाश टैबलेट का मकसद छात्रों को सब्सिडी दरों पर कंप्यूटर उपकरण मुहैया कराना था, जिससे वे शिक्षा के उद्देश्य से इंटरनेट का इस्तेमाल कर सकें। कनाडा की कंपनी डाटाविंड को ‘आकाश’ टैबलेट के पहले और दूसरे संस्करण के उत्पादन का मौका मिला था।

Leave A Reply

Your email address will not be published.