जापान का पासपोर्ट सबसे शक्तिशाली, जानें सूची में भारत को मिली कौन-सी रैंक?

इस साल के लिए दुनिया के सबसे शक्तिशाली पासपोर्ट की रैंकिंग की लिस्ट जारी की गई है। सबसे शक्तिशाली पासपोर्ट का मतलब होता है उस देश के नागरिकों को बिना वीजा के सफर करने की अनुमति रहती है। हेनले और पार्टनर्स ने पासपोर्ट इंडेक्स ग्लोबल रैंकिंग जारी की है।

इस रैंकिंग के मुताबिक, दुनिया में सबसे शक्तिशाली पासपोर्ट जापान का है। वहीं अमेरिका इस सूची में सातवें नंबर पर आता है। वहीं अपने देश की बात करें तो भारत इस सूची में 85वें स्थान पर है। जबकि चीन 70वें स्थान पर और पड़ोसी देश पाकिस्तान नीचे से चौथे स्थान पर है |

किसी भी देश के लिए शक्तिशाली पासपोर्ट रैंकिंग इसलिए महत्वपूर्ण होती है क्योंकि उसी के आधार पर यह तय किया जाता है कि उस देश के नागरिक कितने देशों में बिना वीजा के घूम सकते हैं। यानि कि इस सुविधा के तहत अन्य देश शक्तिशाली पासपोर्ट वाले देश के नागरिकों को ऑन अराइवल की सुविधा प्रदान करते हैं। 

ये रैंकिंग इंटरनेशनल एयर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन के डाटा पर आधारित होती है। ये एसोसिएशन दुनिया की सबसे बड़ी और सटीक यात्रा जानकारी के डाटाबेस को बनाए रखता है और हेनले और पार्टनर्स इसे डाटा का आकलन कर इस रैंकिंग रिपोर्ट को तैयार करते हैं।

इस बार शक्तिशाली पासपोर्ट की लिस्ट में एशियाई देशों का बोलबाला है। जापान के नागरिकों को दुनिया के 191 देशों में ऑन अराइवल वीजा की सुविधा दी जाती है। इसलिए जापान को सबसे शक्तिशाली पासपोर्ट सूची में पहले स्थान पर रखा है। इसके बाद दूसरे नंबर पर सिंगापुर है, जिसके नागरिकों को 190 देशों में ये सुविधा मिलती है।

तीसरे नंबर पर दक्षिण कोरिया और जर्मनी हैं, जिनके नागरिकों को 189 देशों में वीजा ऑन अराइवल की सुविधा मिलती है। इसके बाद इटली, फिनलैंड, स्पेन और लक्जमबर्ग चौथे और डेनमार्क और ऑस्ट्रिया पांचवें स्थान पर हैं। वहीं भारत इस सूची में 85वें स्थान पर काबिज है, इसका मतलब यह हुआ कि भारतीय नागरिकों को 58 देशों में ऑन अराइवल वीजा की सुविधा मिलती है।
 

चीन इस सूची में 70वें स्थान पर हैं, जिसका मतलब है कि चीनी नागरिक 75 देशों में ऑन अराइवल वीजा की सुविधा ले सकते हैं और पाकिस्तान नीचे से चौथे यानि कि 107वें स्थान पर हैं और पाकिस्तान को 32 देशों में ही ऑन अराइवल वीजा की सुविधा मिली है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.