लक्षित समूहों के टीकाकरण में तेजी लाने के निर्देश कोविड-19 टीकाकरण,पहला डोज ले चुके लाभार्थियों को दूसरा डोज जरूरी

रायपुर – मुख्य सचिव अमिताभ जैन की अध्यक्षता में आज यहां मंत्रालय महानदी भवन में कोविड-19 टीकाकरण के लिए गठित राज्य स्तरीय समिति की बैठक का आयोजन किया गया।बैठक में कोविड-19 टीकाकरण के लिए चिन्हित लाभार्थी समूहों तक पहुंच बनाने और उनका टीकाकरण किए जाने के संबंध में चर्चा हुई।मुख्य सचिव ने कहा है कि टीकाकरण के पहला डोज ले चुके लोगों को दूसरा डोज अनिवार्य रूप से लेना है तभी टीकाकारण का फायदा हो सकेगा।टीकाकारण के बाद भी सुरक्षा उपायों का पालन करना जरूरी है।इसके लिए लक्षित समूह स्वास्थ्य कार्यकर्ता, फ्रंट लाईन वर्कर्स, 60 वर्ष से अधिक आयु के लोग और 45 वर्ष से 59 वर्ष आयु के गंभीर बीमारी से पीड़ित व्यक्तियों को कोविड-19 के टीकाकरण के लिए प्रेरित किया जाना है। इसके लिए लक्षित समूहों तक मोबाईल एसएमएस व्हाटअप मेसेज, ई-पाम्पलेट के माध्यम से टीकाकरण के संबंध में विस्तृत जानकारी भेजने के निर्देश दिए हैं।

जैन ने यह भी कहा है कि महाविद्यालयों के विद्यार्थियों, एन.एस.एस. (राष्ट्रीय सेवा योजना) के छात्रों और नेहरू युवा केन्द्र के सदस्यों को कोविड के संक्रमण से बचाव के दिशा-निर्देशों के संबंध में सोशल मीडिया के माध्यम से जानकारी देने के निर्देश भी उन्होंने दिए है।जैन ने कहा है कि शासन के सभी विभागों में कार्यरत लक्षित समूहों के सदस्यों तक टीकाकरण के संबंध में जानकारी मोबाईल मेसेज के द्वारा पहुंचने चाहिए। जिससे टीकाकरण की प्रक्रिया सरल हो सके और कोविड-19 के संक्रमण से बचा जा सके। समाज कल्याण विभा द्वारा संचालित किए जा रहे वृद्धा आश्रम में रह रहे वरिष्ठ नागरिकों और विविध पेंशन योजनाओं के लाभार्थियों को भी टीकाकरण के लिए प्रेरित करने और टीकाकरण करवाने के निर्देश दिए हैं।

जैन ने कहा है कि सभी शासकीय और मान्यता प्राप्त अस्पतालों द्वारा टीकाकरण केन्द्रों में 30 दिनों के टीकाकरण का विस्तृत कार्यक्रम अनिवार्य रूप से चस्पा किए जाए और पर्याप्त मात्रा में कोविड-19 टीकों की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए।जैन ने ग्रामीण क्षेत्रों में ग्रामीणों की सुविधा अनुसार नजदीक की जगह में टीकाकरण केन्द्र बनाने और बेहतर तरीके से टीकाकरण की प्रक्रिया पूरी करने के निर्देश दिए है। टीकाकरण के कार्य में कुछ जिलों की धीमी गति को देखते हुए श्री जैन ने अप्रसन्नता व्यक्त की है और गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही, नारायणपुर, कोरबा, बिलासपुर, सुकमा, कोरिया, कांकेर जिलों को टीकाकरण के कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए हैं।

बैठक में अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य विभाग रेणु जी पिल्ले ने बताया कि कोविड-19 टीकाकरण के प्रथम चरण में 2.6 लाख स्वास्थ्य कार्यकर्ता, 1.8 लाख फ्रंड लाईन वर्कर्स, 1.3 लाख 60 वर्ष से अधिक आयु के वरिष्ठ नागरिकों का टीकाकरण किया जा चुका है। इसी तरह दूसरे चरण में 1.4 लाख स्वास्थ्य कार्यकर्ता, 5 हजार 403 फ्रंड लाईन वर्कर्स, 28 हजार 842 45 से 59 वर्ष से आयु वर्ग के लोगों और 1.6 लाख 60 से अधिक आयु वर्ग के लोगों का टीकाकरण हो चुका है।

राज्य में टीकाकरण के लिए कोहीसील्ड के 8 लाख 80 हजार 700 और को-वेक्सीन के 72 हजार 540 टीके उपलब्ध हैं। प्रत्येक जिलों को आवश्यकता के अनुसार टीके उपलब्ध कराए जा रहे हैं।वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक में सामान्य प्रशासन विभाग, पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग, नगरीय विकास विभाग, राजस्व, महिला एवं बाल विकास विभाग, उद्योग विभाग, श्रम विभाग, आदिवासी विकास विभाग, समाज कल्याण विभाग के सचिव स्तरीय अधिकारी और स्वास्थ्य मिशन संचालक डॉ. प्रियंका शुक्ला उपस्थित थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.