sex

जयपुर राजस्थानके अलवर जिले में महिला के साथ पति के सामने पांच लोगों द्वारा दुष्कर्म किए जाने की घटना सामने आने के बाद मानवता का सिर शर्म से झुक गया है।इस घटना ने दिल्ली के निर्भया मामले की याद ताजा कर दी।पांच दरिंदों पर इस हैवानियत सवार थी कि-वे महिला को तीन घंटे तक रौंदते रहे।बंधक पति असहाय था और हवस के भूखे भेड़िए उस महिला को नोंच रहे थे।पीड़िता उन भेड़ियों से रहम की गुहार करती रही,लेकिन हवस के भूखे इन नरपिशाचों ने उसकी एक न सुनी।महिला की चीखें दबकर रह गईं। विरोध करने पर पांचों आरोपियों ने महिला और उसके पति के साथ मारपीट जमकर की।

Read More: Health News: गर्भावस्था में तनाव को इस तरह करें छूमंतर

महिला अपने पति के साथ बाजार कुछ सामान खरीदने के लिए गई थी।पूरी घटना का विडियो बनाने के बाद आरोपियों ने रेप पीड़िता को ब्लैकमेल करना भी शुरू कर दिया।एक वीडियो तो सोशल मीडिया पर वायरल भी कर दिया।पुलिस के अनुसार,गैंगरेप में शामिल सभी आरोपी ट्रक ड्राइवर या हेल्पर हैं।इस घटना के बाद पीड़िता कितने सदमे में होगी,इसका अनुमान लगाना भी मुश्किल है।इस घटना ने पूरे परिवार को तोड़कर रख दिया है।

परिजनों के मुताबिक रेत के टीलों के पीछे दोनों के कपड़े उतारकर वीडियो बनाया गया।बाद में उन्हें ब्लैकमेल भी किया।आरोपियों ने पहले महिला के पति को बुरी तरह पीटा,जब महिला ने बचाने की कोशिश की तो उसे भी बुरी तरह पीटा।आखिरकार पति को बचाने के लिए महिला ने उन दरिंदों के सामने सरेंडर कर दिया।पांचों ने बारी-बारी उसके साथ दुष्कर्म किया।उनके पास मौजूद 2000 रुपए भी आरोपियों ने लूट लिए।घटना के बाद पति-पत्नी इस कदर सदमे में आ गए कि उन्होंने तीन दिन बाद परिजनों को घटना के बारे में बताया।

तीन आरोपी ‍गिरफ्तार

इस बीच, थानागाजी थाने के एसओ को सस्पेंड कर दिया गया है और अलवर के एसपी का ट्रांसफर कर दिया गया है।इससे पूर्व,घटना से आक्रोशित लोगों ने थानागाजी कस्बे में मंगलवार को प्रदर्शन किया और राष्ट्रीय राजमार्ग रोक दिया।इसके बाद पुलिस हरकत में आई और आरोपियों को गिरफ्तार किया।

राज्य के पुलिस महानिदेशक कपिल गर्ग ने मीडिया से कहा कि-घटना में पांच लोगो को नामज़द किया गया है।इस मामले में अब तक तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है।शेष आरोपियों की गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं।गिरफ्तार आरोपियों में मुकेश, इंद्रराज एवं अशोक शामिल हैं।

जारी रहेगा आंदोलन

प्रदर्शन कर रहे लोगों ने कहा कि-इस मामले में जब तक न्याय नहीं मिल जाता,बाजार बंद करने एवं प्रदर्शन करने के साथ आंदोलन जारी रहेगा।इस मामले के गर्माने के बाद थानागाजी में अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया गया है।प्रदर्शन के समर्थन में निजी शिक्षण संस्थान बंद रहे। इसके अलावा थानागाजी में शिव मंदिर में लोगों ने धरना शुरू कर दिया।

पीड़ित परिवार को मुआवजा

राज्य सरकार ने पीड़ित परिवार को 4 लाख 12 हजार 500 रुपए का मुआवजा तथा सुरक्षा मुहैया कराई गई है।पीड़िता के 164 के तहत बयान दर्ज कराए जा रहे हैं।

Summary
0 %
User Rating 5 ( 1 votes)
Load More Related Articles
Load More By MyNews36
Load More In क्राइम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Xiaomi का यह बजट स्मार्टफोन जल्द ही होगा बंद,फरवरी में ही हुआ है लॉन्च

रायपुर-शाओमी ने भारत में अपना नया स्मार्टफोन रेडमी नोट 7एस लॉन्च कर दिया है।इस फोन में भी …