Mynews36
!! NEWS THATS MATTER !!

Illegal mining: मोहला, मानपुर में चोरी के गिट्टी-मुरम से बन रही सड़क

Illegal mining
Illegal mining

पीडब्ल्यूडी और पीएमजीएसवाई के अधिकारी ठेकेदारों से ले रहे हैं मोटा कमीशन

राजनांदगांव। जिले केे मोहला और मानपुर वनांचल में सड़क निमार्ण कार्यो में चोरी की गिट्टी और चोरी के मुरम का धडल्ले से उपयोग जारी है। मुरम और पत्थर के अवैध उत्खनन (Illegal mining) को मोहला राजस्व अनुविभाग के निचले से लेकर उच्च अधिकारियों का खुला संरक्षण मिला हुआ है यहीं कारण है कि इस अंचल के जंगल, पठार, पहाड़ में बड़े पैमाने पर मुरम और पत्थर के उत्खनन के प्रमाण देखे जा रहे हैं। बताया जाता है कि अवैध उत्खनन करने वालों से राजस्व अमले की जबरदस्त लेनदेन होता है। मामले पकड़ में आने के बाद राजस्व विभाग के उच्चाधिकारियों द्वारा मोटा लेनदेन कर मामले को निपटा दिया जाता है। इधर सड़क निर्माण कार्य वाली कार्य एजेंसी पीडब्ल्यूडी अनुविभाग अंबागढ़ चौकी और प्रधानमंत्री सड़क ईकाई क्रमांक दो के अधिकारियों को अवैध उत्खनन से कोई लेना देना नहीं है।उनका कहना है कि सड़क निर्माण कार्य में जितनी मात्रा में मुरम और गिट्टी का उपयोग किया जाता है कि उतनी की रायल्टी काटकर माईनिंग में जमा करा दी जाती है। सवाल यह उठता है कि रायल्टी काट देने से कार्य एजेंसी विभाग की जिम्मेदारी पूरी नहीं हो जाती नियमत: मुरम और गिट्टी के लिए विधिवत परिवहन पास, माईनिंग की लीज अनुमति का होना भी जरूरी है। अंदाजा लगाया जा सकता है जब कार्य स्थल पर से ही मुरम और वहीं के आसपास से पत्थर का अवैध उत्खनन कर इसका उपयोग सड़क निर्माण कार्य में किया जा रहा हो तो ठेकेदार को कितना फायदा पहुंचता होगा?
जानकारी के अनुसार मोहला और मानपुर विकासखंड के एटकन्हार, भर्रीटोला, बोरिया मुकासा, रामगढ़, पानाबरस, घोटिया, चवेला, भैसबोड, परेवाडीह, पारडी इलाके में बड़े पैमाने पर मुरम का उत्खनन कर जंगलों का सत्यानाश कर दिया गया है वहीं ठेकेदारों ने पहाडों को भी नहीं बख्शा है।

कार्यवाहीहुई तो सलाखों के पीछे होंगे ठेकेदार

अवैध उत्खनन कार्य में इलाके के सरपंच सचिवों की भूमिका भी काफी महत्वपूर्ण है। बताया जाता है कि उनके संरक्षण में सड़क बनाने वाले ठेकेदार निजी और सरकारी जमीन को बिना लीज के बेतहासा खुदाई कर डालते हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मोहला-मानपुर अंचल में अभी एक दर्जन सड़कों का निर्माण कार्य जारी है जिसमें मुरम लेबल का काम चल रहा है। बजाया जा रहा है कि मुरम और पत्थरों के अवैध उत्खनन के जरिए ठेकेदारों द्वारा प्रशासन को करोडों रूपए के राजस्व का चुना लगाया जा चुका हैं। माना जा रहा है ऐसे मामलों में कार्यवाही हुई तो चोरी के मामले में इस इलाके में काम कर रहे अधिकांश ठेकेदार सलाखों के पीछे होंगे?


Leave A Reply

Your email address will not be published.

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.