Ramesh Pokhriyal Nishank
Ramesh Pokhriyal Nishank

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक का कहना है कि मंत्रालय ने विश्वविद्यालयों की परीक्षाओं के आयोजन को लेकर विस्तृत मानक संचालन प्रक्रिया तैयारी की है। उन्होंने कहा कि मंत्रालय ने गृह मंत्रालय एवं स्वास्थ्य मंत्रालय के साथ मिलकर एसओपी तैयार की है। जिसे विश्वविद्यालय संचालित कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित परीक्षा में टर्मिनल सेमेस्टर/अंतिम वर्ष का कोई भी विद्यार्थी उपस्थित होने में असमर्थ रहता है, तो उसे ऐसे पाठ्यक्रम के लिए विशेष परीक्षाओं में बैठने का अवसर दिया जा सकता है।

एचआरडी मंत्री ने कहा कि बड़ी संख्या में विद्यार्थियों के शैक्षणिक हितों को देखते हुए यूजीसी ने टर्मिनल सेमेस्टर की सभी परीक्षाएं 30 सितंबर तक कराने का दिशा निर्देश जारी किया है। उन्होंने कहा कि छात्रों की सुरक्षा और भविष्य दोनों अहम हैं। हमारे लिए विद्यार्थियों का स्वास्थ्य, उनकी सुरक्षा, निष्पक्षता और समान अवसर के सिद्धांतो का पालन करना सर्वोपरि है। विश्व स्तर पर विद्यार्थियों की शैक्षणिक विश्वसनीयता, करियर के अवसरों और भविष्य की प्रगति को सुनिश्चित करना भी शिक्षा प्रणाली में बहुत मायने रखता है।

उन्होंने कहा कि ये कहना अतिशयोक्ति नहीं होगा कि किसी भी शिक्षा प्रणाली में विद्यार्थियों का शैक्षणिक मूल्यांकन बहुत महत्वपूर्ण मील का पत्थर है। परीक्षाओं में प्रदर्शन विद्यार्थियों को आत्मविश्वास और संतुष्टि देता है। एचआरडी मंत्री ने ये सारी बातें ट्वीट कर कही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You missed