Mynews36
!! NEWS THATS MATTER !!

दीपावली कैसे मनाना है यह आपके आस्था पर निर्भर करता है परन्तु क्या नहीं करना है यह मानवता के लिए आवश्यक है – एचपी जोशी

celebrate Deepawali,celebrate Deepawali

celebrate Deepawali

हमें हमारा भारतीय संविधान अपने अंतरात्मा के अनुसार धर्म, आस्था, विश्वास करने का अधिकार देता है,स्वतंत्रता, समानता, अभिव्यक्ति और जीवन का अधिकार देता है।इसके साथ ही यह भी आवश्यक है कि इससे दूसरे व्यक्ति अथवा समूह के धर्म, आस्था, विश्वास को ठेस न पहुंचे, दूसरे के स्वतंत्रता, समानता, अभिव्यक्ति और जीवन के अधिकार का हनन न हो।

आसन्न दिनों में दीपावली है, दीपावली में कितना अच्छा और क्या खाना खिलाना है, किस ईश्वर, देवी देवता का पूजा करना है किस पद्धति से पूजा करना है इसपर किसी भी अन्य व्यक्ति से सीखने की जरूरत नहीं, अपने आस्था और विश्वास के अनुसार ही हमें करना चाहिए। आप मुहूर्त देखना चाहते हैं तो जरूर देखिए जो मुहूर्त पर विश्वास नहीं करता उनके लिए उनके सिद्धि के लिए मुहूर्त का कोई औचित्य ही नहीं है। उन्हें अर्थात जो अपने आस्था के अनुसार चाहे वह परम्परागत न भी हो दीपावली मनाने पर उतना ही फल मिलेगा, उतना ही सकून, उतना ही शांति और उतना ही सुख मिलेगा जितना परंपरा के अनुसार करने पर किसी को मिलता है। आपको अपने आर्थिक स्थिति और आस्था के अनुसार दीपावली मनाना चाहिए क्योंकि दीपावली 100001, 10001, 1001, 101, 51, 21 या 01 दिया जलने की बाध्यता नहीं है क्योंकि राजा राम आपके दिए जलाने का मोहताज नहीं हैं यह उनके प्रति प्रेम है। ये वही राम हैं जिन्होंने माता सबरी के प्रेम, आस्था और विश्वास के कारण उनके जूठे बेर खाए थे, मतलब आपको समझने की जरूरत है आपकी आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है तो कोई बात नहीं नए कपड़े पहनने या खरीदने की कोई जरूरत नहीं आप साफ सुथरे कपड़े पहनें।

लेखक का मानना है कि जब हम अधिक पटाखे जलाएंगे तो पर्यावरण प्रदूषित होगा, इसका तात्पर्य हम उत्सव नहीं मना रहे बल्कि अपने और अपने लोगों के लिए पर्यावरण में जहर घोल रहे हैं जिसे आगे हमें ही ग्रहण भी करना है। आज दिल्ली की स्थिति से आप भलीभांति परिचित ही होंगे, इसलिए अपने और अपनों की भविष्य के लिए पटाखे जलाने से परहेज़ करें, मुझे पता है मेरे इस लेख से कुछ लोगों को आपत्ति भी होगी और कुछ लोग Facebook, WhatsApp में अभद्र टिप्पणी भी करेंगे। मगर एक बार जरूर विचार करें कि क्या हमारा धर्म हमें पर्यावरण प्रदूषित करने अथवा दूसरों की जान जोखिम में डालने की अनुमति देती है, क्या हम इतने स्वार्थी हैं??

Happy Diwali

PollutionFreeDiwali

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.