राजनांदगांव MyNews36 प्रतिनिधि- हरेली केे दिन बीस जुलाई को कोरोना लाकडाऊन के दिशा निर्देशों का उलंघन करते हुए जुआरियों को जुआ खेलने के लिए होटल का कमरा उपलब्ध कराने वाले रेवाडीह स्थित राज इंपीरियल के मालिक राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के कटघरे में भी आए हैं।ईमानदार प्रशासनिक व्यवस्था के बीच जिला दंडाधिकारी टीके वर्मा ने यदि इस अधिनियम की धारा 51 को अमल कराने में सक्रियता दिखाई तो होटल राज इंपीरियल का मालिक सलाखों के पीछे भी जा सकता है।राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 एक ऐसा कानून है जिसके प्रयोग के लिए जिला स्तर पर जिला दंडाधिकारी सक्षम होते हैं।

ज्ञात हो कि पूरे देश में 22 मार्च 2020 के बाद से कोरोना संक्रमण के चलते राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 प्रभावशील है।इस अधिनियम के तहत केंद्र या राज्य सरकार या जिला प्रशासन द्वारा बनाई गई कोई भी व्यवस्था या नियम या जारी निर्देशों को पालन करना हर किसी के लिए निहायत जरूरी होता है।कोरोना संक्रमण के चलते यहां जिला प्रशासन ने केंद्र और राज्य सरकार के निर्देंशों के परिपालन में होटल और बार को पूरी तरह से बंद रखने के निर्देश दिए थे किन्तु इन निर्देशों की अवहेलना करते हुए होटल राज इंपीरियल ने होटल के बाहरी दरवाजों को बंद कर भीतर में जुआ के लिए जुआरियों को रूम देकर इस कारोबार से लाभ अर्जित करते पाया गया है।

मामले में 13 जुआरियों के साथ होटल के मैनेजर के खिलाफ जुआ एक्ट के तहत तो अपराध पंजीबद्ध कर लिया गया किन्तु राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की कार्रवाई अभी शेष है।इस अधिनियम की धारा 51 कार्रवाई का पूरा प्रावधान है। इधर होटल प्रबंधन ने कोरोना काल के बीच असम से आई दो युवतियों की जानकारी भी स्वास्थ्य विभाग को नहीं दी थी।जिले के सीएमएचओ डॉ. मिथलेश चौधरी ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि- राज इंपीरियल की ओर से ऐसी कोई जानकारी नहीं दी गई है।नियमत: होटल मालिक भादवि की धारा 269, 270, 271 का भी दोषी है जिसके तहत उन्होने संकटपूर्ण रोग फैलाव की संभावना को जानते हुए उस पर पर्दा डालने की कोशिश की है।

पर्याप्त साक्ष्य के बावजूद पुलिस की नोटिस की कहानी

इधर पूरे मामले में पुलिस की अपनी तयशुदा कहानी नजर आ रही है। घटना के दो दिन बात भी ऐसे गंभीर मामले में कोरोना गाईड लाईन के उलंघन के मामले में पुलिस कार्रवाई के कोई ठोस और सार तथ्य उभरकर सामने नहीं आए हैं?

कोरोना गाईडलाईन के नियमों पर जाएं तो होटल राज इंपीरियल का मालिक भादवि की धारा 188 का भी दोषी है क्योंकि उन्होने लोक सेवक द्वारा सम्यक रूप से प्रख्यापित आदेश की अवज्ञा की है। होटल राज इंपीरियल के कमरे में जुआरी, रूपए, मोबाईल और होटल के बाहर जुआरियों के कार, मोटरसाइकिल पकडे जाने की आंखों देखी कार्रवाई, घटना के बाद इधर पुलिस होटल मालिक को नोटिस देने की कहानी गढकर सुर्खियां बटोरने में लगी है जबकि तमाम तरह की कानूनी कार्रवाई के लिए पुलिस और जिला प्रशासन के पास पर्याप्त साक्ष्य है।

MyNews36 प्रतिनिधि पूरन साहू की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed

स्वामित्व अधिकारी एवं संचालक-मनीष कुमार साहू,मोबाइल नंबर- 9111780001 चीफ एडिटर- परमजीत सिंह नेताम ,मोबाइल नंबर- 7415873787 पता- चोपड़ा कॉलोनी-रायपुर (छत्तीसगढ़) 492001 ईमेल -wmynews36@gmail.com