हाई कोर्ट ने एमडीएस की परीक्षा पर लगाया रोक, 40 परीक्षार्थी कोरोना हुए संक्रमित

बिलासपुर – कोरोना के बढ़ते संक्रमण व लॉकडाउन के दौरान तीन मई से आयोजित मास्टर आफ डेंटल सर्जरी(एमडीएस) की ऑफलाइन सेमेस्टर व बैक परीक्षा पर हाई कोर्ट ने रोक लगा दी है। दरअसल, परीक्षा देने वाले 40 दंत चिकित्सक कोरोना पाजिटिव हैं। फिर भी यूनिवर्सिटी उनकी परीक्षाएं ले रही थी। कोर्ट ने इस मामले में डेंटल काउंसिल आफ इंडिया, आयुष विवि व राज्य शासन को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है।

आयुष विश्वविद्यालय ने लॉकडाउन के पूर्व डेंटल काउंसिल आफ इंडिया के निर्देश पर एमडीएस की सेमेस्टर व बैक परीक्षा के लिए मार्च में तिथि जारी की थी। इसके अनुसार परीक्षाएं तीन मई, पांच मई व सात मई को होनी थी। इसमें 200 से अधिक परीक्षार्थियों को शामिल होने थे। यूनिवर्सिटी के इस निर्णय को चुनौती देते हुए डॉ. स्नेहा सहित 14 अन्य परीक्षार्थी ने हाई कोर्ट में याचिका दायर कर की है।

याचिका में परीक्षा स्थगित करने की मांग की गई है। साथ ही बताया कि प्रदेश में पांच मई तक टोटल लॉकडाउन है। इस दौरान लोगों को अपने-अपने घरों में रहना है। ऐसे में विद्याार्थियों को परीक्षा केंद्र तक पहुंचने में समस्या होगी। याचिका की सुनवाई शुक्रवार को जस्टिस पीसेम कोशी की विशेष पीठ में हुई। इस दौरान याचिकाकर्ताओं की तरफ से वकील ने बताया कि करीब 40 परीक्षार्थियों के साथ ही उनके स्वजन भी कोरोना संक्रमित हैं। ऐसे में ऑफलाइन परीक्षा आयोजित करना उचित नहीं है।

यूनिवर्सिटी के इस निर्णय से परीक्षा देने वाले विद्यार्थियों के भी कोरोना संक्रमित होने का खतरा है। उन्होंने यूनिवर्सिटी प्रबंधन से परीक्षा स्थगित करने की मांग की थी। लेकिन, यूनिवर्सिटी प्रबंधन ने कोई ध्यान नहीं दिया। जस्टिस पी. सेम कोशी की पीठ ने सुनवाई के दौरान वैश्विक महामारी में ऑफलाइन परीक्षा लिए जाने को अनुचित माना है। कोर्ट ने आगामी आदेश तक एमडीएस की ऑफलाइन परीक्षा पर रोक लगा दी है। साथ ही डेंटल काउंसिल आफ इंडिया, आयुष विवि व राज्य शासन को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.