Mynews36
!! NEWS THATS MATTER !!

Whatsapp और Facebook जैसे सभी सोशल मीडिया को लेकर बड़ी फैसला लेने जा रही सरकार,जानिए वजह

all social media,all social media

all social media

MyNews36- केंद्र की मोदी सरकार सोशल मीडिया और मैसेजिंग एप्स के लिए नया कानून बनाने जा रही है।इस माह के अंत तक यह कानून आने की संभावना है।इसमें ऐसे प्रावधान किए गए हैं जिससे Whatsapp,Facebook, Twitter, Youtube और TikTok को सरकारी एजेंसियों द्वारा मांगे जाने पर Users की पहचान का खुलासा करना होगा।स्पष्ट है कि नया कानून आने पर देश के करीब 40 करोड़ Social Media Users की गोपनीयता खत्म हो जाएगी।

अनिवार्य होगा सरकार का निर्देश मानना

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर Fake News, चाइल्ड पोर्न, रंगभेद और आतंकवाद संबंधित कंटेंट के प्रसार को देखते हुए पूरी दुनिया में उनकी जिम्मेदारी तय करने की कोशिशें हो रही हैं।इसके लिए सोशल मीडिया से संबंधित नियम-कायदे बनाए जा रहे हैं,लेकिन भारत में बन रहा कानून इन सबसे विस्तृत है।इसके तहत सोशल मीडिया कंपनियों को सरकार का निर्देश मानना ही होगा और इसके लिए वारंट या अदालत के आदेश की अनिवार्यता भी नहीं होगी।

सितंबर 2018 में जारी किया था मसौदा

भारत सरकार ने सोशल मीडिया से संबंधित दिशानिर्देश दिसंबर, 2018 में जारी किए थे और इस पर आम लोगों से सुझाव मांगे गए थे। इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया ने नए प्रावधानों का विरोध करते हुए इन्हें निजता के अधिकार के खिलाफ बताया था, लेकिन जानकारी के मुताबिक सरकार इसमें कोई बड़ा बदलाव नहीं करने जा रही। प्रस्तावित कानून में सोशल मीडिया कंपनियों को सरकार के आदेश पर 72 घंटे के अंदर पोस्ट का मूल पता करने का प्रावधान किया गया था।

उनके लिए कम से कम 180 दिन तक रिकॉर्ड सुरक्षित रखना भी अनिवार्य किया गया था। ये नियम उन सभी सोशल मीडिया कंपनियों के लिए हैं जिनके 50 लाख से ज्यादा यूजर हैं। भारत में करीब 50 करोड़ लोग इंटरनेट का उपयोग करते हैं, लेकिन अभी यह स्पष्ट नहीं है कि विदेशी
यूजर्स इस कानून के दायरे में आएंगे या नहीं

बच्चा चोरी की खबरों पर व्हाट्सएप ने नहीं मानी सरकार की बात

दुनिया भर में सुरक्षा एजेंसियां तकनीकी कंपनियों के रवैये से परेशान हैं, क्योंकि वे सरकारी जांचों में मदद नहीं करतीं। कंपनियां अक्सर यूजर की पहचान बताने या डिवाइस को अनलॉक करने जैसी बातों से इंकार करती हैं। इससे कई मामलों, खासकर आतंकवाद से जूड़े मामलों की जांच प्रभावित होती है।

भारत के लिए इंटरनेट और फेक न्यूज अपेक्षाकृत नई चीजें हैं, लेकिन 2017-18 में व्हाट्सएप पर बच्चा चोरी से संबंधित झूठी खबरें खूब वायरल हुई और नतीजा यह हुआ कि भीड़ की हिंसा में तीन दर्जन से ज्यादा लोगों की जान चली गई।

सरकार के आग्रह पर भी व्हाट्सएप ने निजता के कानून का हवाला देते हुए इन अफवाहों के मूल उद्गम की जानकारी देने से मना कर दिया था। कंपनी ने कहा था कि इससे उसके करीब 40 करोड़ यूजर्स की गोपनीयता खतरे में पड़ जाएगी। कंपनी ने इसकी बजाय फेक न्यूज को रोकने के लिए शोध में सहयोग की बात कही थी।

नए प्रावधानों से नाखुश सोशल मीडिया कंपनियां

व्हाट्सएप ने बुधवार को कहा कि वह सुरक्षा के मामले में कोई समझौता नहीं करेगी क्योंकि इससे यूजर्स असुरक्षित महसूस करेंगे। वहीं, टेक कंपनियों और नागरिक अधिकार समूह नए कानून को सेंसरशिप और नई कंपनियों के लिए बोझ बता रहे हैं। उन्होंने इस मामले में केंद्रीय सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद को खुला खत भी भेजा है।

मंत्रालय के एक अधिकारी ने हालांकि स्पष्ट किया है कि मोजिला और विकीपीडिया नए कानून के दायरे में नहीं आएंगी। ब्राउजर, ऑपरेटिंग सिस्टम, सॉफ्टवेयर विकसित करने वाले प्लेटफॉर्म आदि को इससे बाहर रखा गया है, लेकिन सभी सोशल मीडिया कंपनियों और मैसेजिंग एप के लिए इन्हें मानना अनिवार्य होगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

MyNews36 के सभी प्रिय पाठकों से हमारा निवेदन है-

1) हाथ धोइए क्योंकि इसी से होगा बचाव 2)आंख, नाक और मुंह में हाथ लगाने से बचें 3) लिफ्ट का बटन और दरवाजों का हैंडल न पकड़ें 4)पब्लिक ट्रांसपोर्ट में सफर करते वक्त बरतें सावधानी 5)दूसरों से हाथ मिलाने से बचें 6)भीड़भाड़ वाली जगह जैसे- मॉल या सिनेमा जाने से बचें 7)सोशल गैदरिंग और शादी-पार्टी में जाने से बचें प्रिय पाठक अपनी सुरक्षा आप स्वयं रख सकते है,स्वच्छ रहे,स्वस्थ्य रहे,सुरक्षित रहे। www.MyNews36.com द्वारा जनहित में जारी

COVID-19 Updates in INDIA

Total cases- 1200

Death- 29

Recovered-102

Chhattisgarh Total cases - 7

More COVID-19 Advice
Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.