शिमला,हिमाचल प्रदेश। 1 जनवरी 2016 से न्यूनतम पेंशन और पारिवारिक पेंशन को 9000 रुपये प्रतिमाह कर दिया गया था। इसके अतिरिक्त 1 जुलाई 2021 से पेंशनभोगियों को 31 प्रतिशत महंगाई भत्ता (DA) प्रदान करने का निर्णय लिया है।

Increase in minimum pension-gratuity इसके तहत अब 1 जनवरी 2016 से न्यूनतम पेंशन और पारिवारिक पेंशन को 3,500 से बढ़ाकर 9,000 रुपये प्रतिमाह कर दिया गया है। 1 फरवरी 2022 से इनके खातों में बढ़ी हुई पेंशन आएगी। पेंशनरों को 1,500 से 25,000 रुपये तक का मासिक फायदा होगा।

प्रदेश में 80 वर्ष से ज्यादा आयु के पेंशनभोगियों और पारिवारिक पेंशनभोगियों को संशोधित पेंशन और पारिवारिक पेंशन पर देय अतिरिक्त लाभ भी दिए जाएंगे।वही पेंशनरों को 1 जुलाई 2021 से 31 फीसदी महंगाई राहत (DR) देने का निर्णय भी लिया गया है। यानी यह कर्मचारियों को दिए जा रहे महंगाई भत्ते के बराबर होगी।

इसके अलावा 1 जनवरी, 2016 से ग्रेयचुटी की सीमा को 10 लाख से बढ़ाकर 20 लाख रुपये करने को स्वीकृति प्रदान की, जो NPS कर्मचारियों के लिए भी लागू होगी। इसके तहत जो कर्मचारी 1 जनवरी 2016 के बाद रिटायर हुए हैं और जिनकी ग्रेच्युटी ज्यादा बनती है, उन्हें इसका एरियर दिया जाएगा। जिसका लाभ करीब 43,000 पेंशनरों को मिलेगा ।

अधिसूचना के अनुसार पहली जनवरी, 2016 से पहले प्री-रिवाइज्ड पेंशन 65-70-75 की आयु पर 5-10-15 प्रतिशत का वित्तीय लाभ मिलता रहेगा।इससे 1.73 लाख पेंशनभोगियों को पहली फरवरी, 2022 से संशोधित पेंशन व पारिवारिक पेंशन मिलेगी।वही 1.30 लाख पेंशनभोगियों और पारिवारिक पेंशनभोगियों को 1 जनवरी 2016 से संशोधित पेंशन व पारिवारिक पेंशन मिलेगी।

14 फरवरी 2022 को हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में पेंशन और ग्रेच्युटी को लेकर बड़ा फैसला लिया गया था। इसमें न्यूनतम पेंशन राशि में इजाफा किया गया, जिसके तहत पेंशनरों और पारिवारिक पेंशनभोगियों को 1 जनवरी 2016 से इसका लाभ मिलेगा। वही पेंशनरों को 1 जुलाई 2021 से 31 फीसदी महंगाई राहत देने का निर्णय भी लिया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.