Mynews36
!! NEWS THATS MATTER !!

Exclusive MyNews36: खदानों की खाई में दो करोड़ की मलाई,जानिए क्या है पूरी कहानी ….

जांच के नाम पर राजस्व अमले की खानापूर्ति

Exclusive MyNews36

राजनांदगांव- /Exclusive MyNews36- 22 अगस्त 2019 को राजनांदगांव जिले के जोरातराई-मुढीपार के दो दर्जन खदानों और क्रेशर संचालकों को छेडऩे वाला जिला प्रशासन उन्हे कारण बताओ नोटिस जारी करने बाद अब खामोशी की चादर ओढ़ लिया है। (Exclusive MyNews36) उनकी खामोशी का राज चाहे जो भी हो पर जिले भर में अवैध उत्खनन और खदानों की जांच की अखबारी ढोल बजाने वाले जिला प्रशासन की खदानों की जांच के मामले में एकाएक खामोशी यह सवाल खड़ा कर रहा है कि-आखिर ऐसा क्या हुआ है कि प्रशासन को पूरी तरह से सांप सूंघ गया है?राजस्व और माईनिंग के कंधे पर बंदूक रखकर जिला प्रशासन जिस ढंग से खदान और क्रेशरों की जांच के मामले में दुमुंही कार्रवाई कर रहा है उससे यह साफ है कि-प्रशासन दुर्ग जिले वालों पर कार्रवाई का ट्रेरर बनाकर राजनांदगांव जिले के खदान वालों से बड़े पैमाने पर अपना उल्लू सीधा करने की तैयारी में है?

जानकारी के अनुसार राजनांदगांव जिले में करीब 120 खदान और क्रेशर है इसमें अधिकांश खदान डूमरडीह कला, चंवरढाल,देवडोंगर,चवेली,बल्देवपुर, कलकसा,खुर्सीपार,साल्हेभर्री सालिक झिटिया,अर्जुनी में स्थित है पर अभी तक खदानों के खिलाफ ठोस जांच कार्रवाई शुरू नहीं हुई हैं।केवल नोटिस जारी कर जांच की कागजी खानापूर्ति की जा रही है।

Exclusive MyNews36

खबर यह है कि क्रेशर और खदान संचालकों का दो अलग-अलग धड़ा प्रशासन से सांठगांठ की तैयारी में है। चर्चा यह छनकर सामने आ रही है कि प्रत्येक क्रेशर और खदान वालों चंदा इकट्ठा कर प्रशासन को सामूहिक चढोत्तरी की तैयारी की गई है।माना जा रहा है कि ऐसी रणनीति यदि कामयाब हुई तो प्रशासन के खाते में करीब दो करोड़ रूपए का चढ़ावा स्वभाविक है।

गर्म है चर्चाओं के बाजार,सेट हो गए हैं साहब

पंद्रह साल भाजपा की सत्ता के दौरान खदानों और क्रेशरों को कभी झांककर नहीं देखने वाले माईनिंग और राजस्व का अमला समय-समय पर शासकीय दायित्वों के निर्वहन में यदि ऐसी ही कर्तव्यनिष्ठा और ईमानदारी का परिचय दिया होता तो आज खदानों और क्रेशरों के संचालन में अनियमितता की खाई इतनी अधिक गहरी नहीं होती?खदानों की जांच को लेकर प्रतिदिन तरह-तरह की चर्चाओं की बाजार गर्म है।कोई कह रहा है कि खदान वालों से साहब बेहद नाराज है,कोई कह रहा है कि साहब सेट हो गए हैं?भला कोई सेट हो या न हो पर एक बात तो यह स्पष्ट है कि छत्तीसगढ़ राज्य गठन के बाद जिला प्रशासन ने पहली बार खदानों की गहराई नाप कर अच्छे-अच्छे सत्ताधारियों, भाजपाईयों और पहुंच वालों को उनकी औकात नाप कर रख दी है,एप्रोच के मामले में उनकी पैंठ ढीली कर दी है।

दुर्ग वालों के पकड़े कान,नांदगांव पर मेहरबान

22 अगस्त 2019 को खनिज निरीक्षक बबलू पांडे के द्वारा जोरातराई के जिन दो दर्जन खदान और क्रेशर संचालकों को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया था उसमें अटल गोदवानी सिंधी कालोनी दुर्ग, दीपक शर्मा न्यू आदर्श नगर दुर्ग, सत्यनारायण शर्मा बोरसी दुर्ग,भागीरथी चक्रधारी महेश कालोनी दुर्ग, संतोष कुमार लोहानी दीपक नगर दुर्ग,मेसर्स एस एस डी इंटरप्राईजेस सुनील गोदवानी दुर्ग, प्रबल कुमार शर्मा आर्य नगर दुर्ग, शिवलाल चक्रधारी दुर्ग,ओम मिनरल्स जितेंद्र हासवानी दुर्ग,लीला हासवानी दुर्ग, महेन्द्र शर्मा न्यू आर्र्दश नगर दुर्ग,शुभ्रद्रा शर्मा न्यू आदर्श नगर दुर्ग सहित अन्य शामिल हैं।

बताया जाता है कि जिन-जिन खदान संचालकों को नोटिस जारी किया गया था उन्होने अपना जवाब भी दे दिया पर अभी तक किसी प्रकार की कार्रवाई सार्वजनिक नहीं हुई है।राजनांदगांव जिले के निवासी क्रेशर खदान वालों के खिलाफ प्रशासन की मुंहदेखी कार्रवाई चल रही है,दुर्ग वालों पर सर्वाधिक कार्रवाई के डोरे डाले गए हैं। अभी हाल ही में पटवारी हल्का नंबर 22 के अंतर्गत खसरा नंबर 108 में संचालित श्रीमती अर्चनादास पति दुष्यंत दास वर्धमान नगर,अब्दुल साजिद खान पिता अब्दुल वाहिद खान पठानपारा राजनांदगांव,योगेश डाकलिया पिता प्रकाशचंद डाकलिया के अलावा खसरा नंबर 51,54,57,113 में संचालित खदानों की लीज की आड़ में सरकारी जमीन पर अवैध कब्जा का मामला सामने आया था जिस पर राजस्व अमले द्वारा जांच भी की गई पर पता चला है कि जांच में पूरी तरह से लिपापोती कर दी गई है।बताया जाता है कि डूमरडीहकला निवासी कोई दिनेश पूरे मामले की प्रशासनिक सांठगांठ और लेनदेन में अहंम भूमिका निभा रहा है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.