आखिरकार अपनी रणनीति में सफल रमेश खंडेलवाल बन गए निर्विरोध अध्यक्ष

राजनांदगांव MyNews36 प्रतिनिधि- छत्तीसगढ़ में पंद्रह साल सत्ता का सुख भोगने वाले भाजपा के अधिकांश नेता इन दिनों कैसे सुस्त खाए बैठे हैं, इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि भाजपा का बहुमत होने के बाद भी राजनांदगांव वन मंडल के जिला लघु वनोपज सहकारी समिति के अध्यक्ष पद को भुनाने के मामले में हाथ पर हाथ धरे बैठी रह गई। आखिरकार कांग्रेस ने अल्पमत के बाद भी ऐसी परिस्थति निर्मित कर दी कि भाजपा से अध्यक्ष पद के लिए चाह रखने वाली छुरिया विकासखंड के अछोली निवासी श्रीमती ब्रम्हानी चंद्राकर को प्रस्तावक और समर्थक भी नहीं मिल पाया। भाजपा के तमाम नेताओं की निष्क्रियता सेे नाराज ब्रम्हानी चंद्राकार द्वारा पार्टी से इस्तीफे की पेशकश किए जाने की खबर है। ज्ञात हो कि जिले के राजनांदगांव वनमंडल अंतर्गत लघुवनोपज सहकारी समिति के नौ सदस्य है। इन सदस्यों में करीब छह सदस्य भाजपा के होने के चलते भाजपा की सत्ता के दौरान मानपुर नेडगांव प्राथमिक वनोपज सहकारी समिति के धरमू भुआर्य अध्यक्ष निर्वाचित हुए थे। इस बार धरमू भुआर्य के नेडगांव मानपुर के सरपंच निर्वाचित होने के बाद उन्होने लघु वनोपज सहकारी समिति के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया, लिहाजा अध्यक्ष के लिए नए निर्वाचन की स्थिति निर्मित हो गई।

जानकारी के अनुसार हाल ही में 30 जुलाई 2020 को अध्यक्ष पद का चुनाव होना था जिसके लिए आसरा प्राथमिक वनोपज सहकारी समिति की श्रीमती ब्रम्हानी चंद्राकर अध्यक्ष का चुनाव लडऩे की तैयारी में थी। बताया जाता है कि भाजपा संगठन के कई नेताओं से उन्होने से इस चुनाव के लिए मदद मांगी।चुनाव में अध्यक्ष की दावेदारी की तैयारी भी किन्तु भाजपा के किसी नेता ने उनकी मदद के लिए हाथ नहीं बढ़ाया। राजनांदगांव जिला मुख्यालय में वन मंडल कार्यालय में चुनाव में संपन्न हुए चुनाव में ब्रम्हानी चंद्राकर पूरी तरह से अलग-थलग पड़ गई।

भाजपा के कोई सदस्य ब्रम्हानी के प्रस्तावक समर्थक बनने के लिए तैयार नहीं हुए। बताया जाता है कि अध्यक्ष पद हथियाने के लिए कांग्रेेस के रमेश खंडेलवाल ने तगड़ी मोर्चाबंदी की थी और वे अपनी रणनीति में भी सफल हो गए। कुल मिलाकर भाजपा के सदस्य एक तरह से खरीद फरोख्त के शिकार हो गए यह कहा जाए तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी?

जिलाध्यक्ष अस्वस्थ तो फिर क्या बाकि नेता भी बीमार!

उल्लेखनीय है कि जिला, जनपद के चुनाव में बेहतर प्रदर्शन के बाद भाजपाईयों में एक नए जोश का संचार हुआ था। इसके बाद से कोराना काल में भी भाजपा संगठन की गतिविधियां बनी हुई है। इस बीच हाल ही में जिला भाजपाध्यक्ष मधुसूदन यादव अपनी शारीरिक तकलीफों के शिकार हो गए किन्तु मोबाईल से लगातार उनका संपर्क बना हुआ है। माना जा रहा है कि जिला लघु वनोपज सहकारी समिति के अध्यक्ष पद के चुनाव में जिले के बाकि नेता मैदानी स्तर पर सक्रियता दिखाते तो निश्चित तौर पर उन्हे सफलता हाथ लगती किन्तु उन्होने भी मधूसूदन यादव जैसी ‘अस्वस्थता’ और बिस्तर पर आराम की स्थिति बनाकर ब्रम्हानी चंद्राकर को उनके हाल पर छोड़ दिया और आखिरकार भाजपा की कब्जा वाली जिला लघुवनोपज के अध्यक्ष की कुर्सी हाथ से चली गई।

MyNews36 प्रतिनिधि पूरन साहू की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

स्वामित्व अधिकारी एवं संचालक-मनीष कुमार साहू,मोबाइल नंबर- 9111780001 चीफ एडिटर- परमजीत सिंह नेताम ,मोबाइल नंबर- 7415873787 पता- चोपड़ा कॉलोनी-रायपुर (छत्तीसगढ़) 492001 ईमेल -wmynews36@gmail.com