एम्स में बढ़ेगी इमरजेंसी सेवाएं, 250 से अधिक चिकित्सक होंगे तैनात

रायपुर – अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान रायपुर (एम्स) की नियमित ओपीडी बंद होने के बाद इमरजेंसी और ट्रामा का विस्तार किया गया है। यहां प्रतिदिन लगभग 70 से 80 रोगी पहुंच रहे हैं। इसे देखते हुए यहां पर चिकित्सा सेवाओं को और अधिक सुदृढ़ करने के लिए 250 से अधिक चिकित्सकों की नियुक्ति की जा रही है, जो कोविड-19 रोगियों के साथ आपातकालीन चिकित्सा में भी सेवाएं प्रदान करेंगे। इसके साथ ही पुराने रोगियों के उपचार को जारी रखने के लिए टेलीमेडिसिन सेवाओं को भी विस्तार दिया गया है।

बढ़ा रहे चिकित्सकों की संख्या

निदेशक प्रो. ( डॉ. ) नितिन एम. नागरकर ने बताया कि नियमित ओपीडी स्थगित होने के बाद से ट्रामा और इमरजेंसी सेवाओं को निरंतर मजबूत बनाने का प्रयास किया जा रहा है। इस कड़ी में ए और बी ब्लाक में आईसीयू और सामान्य बैड बढ़ाकर लगभग 250 चिकित्सकों को वहां नियुक्त किया जा रहा है, जिससे 24 घंटे इमरजेंसी सेवाएं प्रदान की जा सके। इमरजेंसी में इस समय प्रतिदिन लगभग 80 रोगी पहुंच रहे हैं।

ऐसे में सभी विभागों के चिकित्सकों की उपलब्धता सुनिश्चित की जा रही है। इसके साथ ही टेलीमेडिसिन सेवाएं रोगियों को निरंतर चिकित्सकीय परामर्श प्रदान कर रही हैं। फिलहाल टेलीमेडिसिन ओपीडी में भी प्रतिदिन औसतन 70 फालोअप रोगी काल कर रहे हैं। एक से 18 अप्रैल के मध्य यहां 903 रोगी काल कर चुके हैं। कोविड-19 को देखते हुए टेलीमेडिसिन ओपीडी सेवाओं के माध्यम से पुराने रोगियों को चिकित्सकीय परामर्श प्रदान करने का निर्णय लिया गया है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.