रायपुर-शादी का दौर शुरू हो गया है।ऐसे में शादी का कार्ड छपवाने का सिलसिला जारी है।लोग अलग-अलग प्रकार के कार्ड,कैलेंडर पर निमंत्रण छपवा रहे हैं,लेकिन अब पर्यावरण संरक्षण के लिहाज से एक नई पहल की जा रही है।इसके तहत अब शादी निमंत्रण कार्ड रूमाल पर छपवाए जा रहे हैं।रूमाल दो बार धोने के बाद प्रिंट धुल जाता है और इसका इस्तेमाल लंबे समय तक कर सकते हैं।इससे निमंत्रण का काम भी हो रहा है और पर्यावरण भी संरक्षित रहेगी।यह मुख्य रूप से पर्यावरण को ध्यान में रखकर किया जा रहा है।इससे कागज बर्बाद नहीं होगा,पेड़-पौधे संरक्षित रहेंगे।खर्च भी कम आता है।यूं कहें तो आम के आम घुठलियों के दाम।

पर्यावरण के लिए हैं लाभ

mynews36.com
mynews36.com

Read More: क्‍यों होती है कुछ बच्‍चों को दूध से एलर्जी? जानें कारण व उपाय

रूमाल पर शादी कार्ड छपवाने का मुख्य उद्देश्य पर्यावरण संरक्षण है।इससे कागज बचाया जा सकता है।एक शादी में कम से कम पांच सौ शादी कार्ड छपवाए जाते हैं।उसी से आप अंदाजा लगा सकते हैं कि-कितने कागज की बर्बादी है।इसी लिहाज से यह अनोखा पहल किया गया और रूमाल पर शादी कार्ड छपवाया गया।सबसे पहले यह पहल पुणे के एक परिवार ने की और अब यह धीरे-धीरे चलन में आ रहा है।

Summary
0 %
User Rating 0 Be the first one !
Load More Related Articles
Load More By MyNews36
Load More In समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Mount Everest : पर्वतारोही अंजलि एस कुलकर्णी की माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने के दौरान हुई मौत

काठमांडू- भारतीय पर्वतारोही मुंबई निवासी अंजलि एस कुलकर्णी का बुधवार को माउंट एवरेस्ट पर च…