आजकल की अनहेल्दी इटिंग हैबिट्स और इनएक्टिव लाइफस्टाइल की वजह से पेट और छाती में गैस बनना आम हो गया है। गैस की वजह से पेट और सीने में कई बार दर्द का अहसास होता है। आज हम बात कर रहे हैं सीने में गैस के लक्षणों की। दरअसल, जब शरीर से गैस बाहर नहीं निकल पाता है, तो पेट या शरीर के दूसरे हिस्सों में दर्द होने लगता है। यह दर्द सीने में भी पहुंच जाता है, इससे छाती में दर्द का अहसास होता है। जकड़न और बैचेनी महसूस होती है। इतना ही नहीं सीने में गैस की वजह से जलन भी होती है।जानिए सीने में गैस के लक्षण और रोकथाम का उपाय –

सीने में गैस के लक्षण

अगर आपको भी सीने में दर्द होता है, तो इसका मतलब सिर्फ यह नहीं कि आपको हृदय से जुड़ी कोई समस्या हो रही है। कई बार गैस की वजह से भी छाती में दर्द होने लगता है। जानें छाती में गैस के लक्षण

1. भूख कम लगना

छाती में गैस (gas in hindi) बनने पर दर्द तो महसूस होता ही है, इसके साथ ही भूख कम लगने का अहसास भी हो सकता है। गैस बनने की वजह से कुछ भी खाने का मन नहीं करता है, इससे भूख में कमी आने लगती है।

2. खट्टी डकार

बार-बार खट्टी डकार आना भी गैस का एक लक्षण होता है। छाती में गैस (gas in chest) बनने पर अक्सर लोगों को खट्टी डकार से परेशान होना पड़ता है। यानी छाती में गैस (gas in chest in hindi) बनने पर खट्टी डकार भी आ सकती है।

3. सूजन महसूस होना

जब हमारे शरीर में गैस बनती है, तो हमें सूजन महसूस हो सकती है। ऐसे में सूजन के लक्षण को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए।

4. मितली और उल्टी

कई बार सीने में गैस (gas in chest in hindi) बनने की वजह से लोगों को मितली और उल्टी जैसा भी महसूस होता है। गैस बनने की वजह से जी मचलाने लगता है। इस दौरान बैचेनी भी महसूस होने लगती है।

5. चक्कर आना

कुछ लोगों को गैस बनने पर कमजोरी, चक्कर जैसा भी महसूस हो सकता है। लेकिन डिहाइड्रेशन और बीपी लो होने पर भी चक्कर आ सकते हैं।

6. सीने में दर्द

शरीर के जिस हिस्से में भी गैस बनती है, उस जगह पर दर्द होना आम होता है। जब छाती पर गैस (gas pain in chest) बनती है, तो सीने में भी दर्द का अहसास होने लगता है। खाने के बाद सीने में दर्द होना गैस का लक्षण होता है।

7. सांस लेने में परेशानी

सांस लेने में परेशानी होना कई गंभीर बीमारियों का संकेत होता है। लेकिन सिर्फ गैस की वजह से भी लोगों को सांस लेने में परेशानी हो सकती है। जब शरीर में गैस ज्यादा फैल जाती है, तो इससे दर्द बढ़ जाता है और सांस लेने में दिक्कत आने लगती है।

सीने में गैस के कारण

छाती में गैस पेट से संबंधित स्थितियों जैसे रिफ्लक्स रोग, हाइपरएसिडिटी, गैस्ट्रिटिस या अंतर्निहित पेप्टिक अल्सर रोग के कारण हो सकती है। इतना ही नहीं यह तनाव, गतिहीन जीवन शैली, मोटापा और अनिद्रा भी छाती में गैस का कारण बनता है।

सीने में गैस का इलाज

सीने में दर्द होने या सांस लेने में दिक्कत होने पर आपको तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। साथ ही उल्टी या चक्कर आने जैसे सामान्य लक्षणों को भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। गैस का इलाज कराने के लिए आपको गैस्ट्रोएंटेरोलॉजिस्ट से मिलना चाहिए। गैस से बचने के उपाय-

1.बाहर के खाने से बचें।
2.मसालेदार और तैलीय भोजन से बचें।
3.समय पर खाना खाएं। खाना अच्छी तरह से चबाकर खाएं।
4.समय पर सोएं और उठें। एक दिन में 7-8 घंटे की नींद जरूर लें।
5.भोजन के 45 मिनट बाद पानी पिएं।
6.खाना खाने के बाद वॉक जरूर करें।
7.नियमित व्यायाम, योगा और जॉगिंग करें।

अगर आपको भी सीने में दर्द होता है, तो इस लक्षण तो नजरअंदाज न करें। क्योंकि सीने में बना गैस कई बार गंभीर भी हो सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.